स्मार्ट सिटी का डब्ल्यू.जे.सी. पर रिवर फ्रंट डव्लपमेंट प्रोजेक्ट नए साल में होगा मुकम्मल,

डव्लपमेंट के कार्य जोरों पर, अब तक 70 प्रतिशत काम हुआ पूरा
 
स्मार्ट सिटी का डब्ल्यू.जे.सी. पर रिवर फ्रंट डव्लपमेंट प्रोजेक्ट नए साल में होगा मुकम्मल,
उपायुक्त एवं केएससीएल के सीईओ निशांत कुमार यादव ने निर्माण एजेंसी को जनवरी अंत तक मुकम्मल करने के दिए निर्देश

करनाल
 पश्चिमी यमुना नहर पर स्मार्ट सिटी का रिवर फ्रंट डव्लपमेंट प्रोजेक्ट नए साल के पहले महीने अर्थात जनवरी के अंत तक पूरा होगा। प्रगति की बात करें तो काम जोरों से चल रहा है, जिसमें पी.सी.सी. यानि प्लेन सीमेंट कंक्रीट का काम मुकम्मल हो गया है, एक साईड की ग्रिल भी लगा दी गई है। दूसरी साईड के फाउंडेशन मुकम्मल हैं और उन पर ग्रिल लगाने की तैयारियां चल रही हैं।

उपायुक्त एवं करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ निशांत कुमार यादव ने गुरूवार को प्रोजेक्ट स्थल का पैदल दौरा कर डव्लपमेंट के कार्यों का निरीक्षण किया, उनके साथ एसीयूटी प्रदीप सिंह भी थे। उपायुक्त के अनुसार काछवा रोड साईड पर पहले से ही बने एक बड़े घाट के साथ एक सुंदर पार्क बनाया जाएगा। हालांकि इसे दूसरे चरण में लेना था, लेकिन इसका टैण्डर लगा दिया गया था, जो शुक्रवार को ही खुलने जा रहा है। जाहिर है कि यह काम भी इसी फेज में होगा।

इसके पश्चात उन्होंने लम्बी दूरी तक यानि करीब 2 किलोमीटर तक फैले स्ट्रैच पर पी.सी.सी., पाथ-वे, साईकिल ट्रेक और प्लांटेशन के लिए छोड़ी गई जगह का निरीक्षण किया। प्लांटेशन के लिए बीच की लाईन छोड़ी गई है, उसके साथ ही साईकिल ट्रैक है। खेतो की साईड पर एमरजेंसी पाथ-वे बनाया गया है। उन्होंने चलते-चलते एस.वाई.एल. व भाखड़ा कैनाल से पहले त्रिवेणी पार्क का निरीक्षण किया। इसमें अब सुंदर दिखाई देने वाले ओपन एयर जिम के उपकरण लगाए गए हैं। त्रिवेणी में पहले से ही मौजूद पेड़ों के झुरमुट हैं। पार्क में सुंदर और सजावटी पौधे लगाए जाने के साथ-साथ एक गैजिबो भी लगाएंगे, बच्चों के लिए टॉट-लॉट यानि खेलने के झूले लगेंगे।  

स्मार्ट सिटी का डब्ल्यू.जे.सी. पर रिवर फ्रंट डव्लपमेंट प्रोजेक्ट नए साल में होगा मुकम्मल,

स्ट्रैच पर नहरी पुल से टर्निंग के सामने एक छोटे कोने में योगा डैक बनाया जा रहा है। खास बात यह है कि इसके सामने एस.वाई.एल. और भाखड़ा, दोनो नहरे कल-कल करती दिखाई देती हैं। योगा के लिए इससे उपयुक्त जगह नहीं हो सकती थी, क्योंकि चित के लिए प्रकृति का साथ जरूरी हैं। इसके पास ही एक गहरे खढ्ढे को डव्लप कर उसमें एडवेंचर पार्क बनाया जा रहा है, इसे माउंट पार्क का नाम दिया गया है। अर्थात स्ट्रैच से नीचे स्लोप पर उतरकर माउंट पर बैठकर एडवेंचर पार्क की फिलिंग ले सकते हैं। इसमें घाट और पाथ-वे बनाने हैं। इसके साथ से गुजर रही एक आवर्धन नहर का किनारा, जो स्ट्रैच के साथ लगता है, सुंदर तरीके से पक्का किया गया है। यहां से ही स्ट्रैच का दूसरा भाग जो करनाल-कैथल रोड तक जाता है, शुरू हो जाता है। उपायुक्त ने इसका भी पैदल राउण्ड लेकर इसका भी निरीक्षण किया। पुल के पास यानि आखिरी सिरे पर एक छोटी पार्किंग बनाई जा रही है और सडक़ से स्ट्रैच की ओर मुड़ते कर्व को चौड़ा कर इसे पैदल व वाहना के लिए ओर सुविधाजनक बनाएंगे।

निरीक्षण के दौरान उपायुक्त ने इस प्रोजेक्ट के लिए काम कर रहे ठेकेदार को निर्देश दिए कि प्लांटेशन और दूसरे जो भी काम बचे हैं, सबको एक साथ शुरू कर दें, क्योंकि जनवरी तक प्रोजेक्ट को मुकम्मल करना है। उन्होंने के.एस.सी.एल. में काम कर रहे अधिकारियों को निर्देश दिए कि चल रहे कार्यों की मॉनिटरिंग करते रहें, वर्क मैनशिप भी चैक करें।
                 
 दौरे में उपायुक्त के साथ केएससीएल के जीएम रमेश मढ़ान, कार्यकारी अभियंता सौरभ गोयल, पीएमसी प्रवीन झा और आर्किटैक्ट इंजीनियर पुर्णिमा भी मौजूद रही।

FROM AROUND THE WEB