स्वास्थ विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही से झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार

 
स्वास्थ विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही से झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार

स्वतंत्र प्रभात-
 

लखनऊ।  मोहनलालगंज जहां एक और सूबे के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने के उद्देश्य से प्रदेश में बने सरकारी अस्पतालों व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण कर रहे हैं जिससे कि प्रदेशवासियों को सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं अच्छी से अच्छी मुहैया कराई जा सके तो वहीं दूसरी स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टरों का मकड़जाल तेजी से फैल रहा है ऐसे डॉक्टर्स की यहां भरमार है जिनके पास न तो कोई डिग्री है और न ही

स्वास्थ्य विभाग में रजिस्ट्रेशन है बताते चलें कि राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज क्षेत्र में इस समय झोलाछाप डॉक्टरों की भरमार है यह डॉक्टर ना सिर्फ मरीजों का उपचार करते हैं बल्कि कोई प्रशिक्षण ना होने के बावजूद भी लोगों का ऑपरेशन तक कर देते हैं झोलाछाप डॉक्टरों से इलाज कराने के कारण कई लोग अपनी जान भी गवां चुके हैं बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग इन पर कोई कार्रवाई नहीं करता है सूत्रों की माने तो अगर कोई व्यक्ति झोलाछाप डॉक्टरों की शिकायत करता है तो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

प्रभारी द्वारा पैसा लेकर मामला तुरंत रफा-दफा कर दिया जाता है स्वास्थ्य विभाग की इस लचर रवैया से झोलाछाप डॉक्टरों के हौसले सातवें आसमान पर है वह अपने मनमाने तरीके से क्षेत्र में मरीजों का इलाज कर रहे हैं। बिना जांच के देते हैं दवाइयां क्षेत्र के झोलाछाप डॉक्टर मरीजों को बिना जांच के दवाइयां दे रहे हैं जो मरीजों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। इन डॉक्टर्स की ओर से अधिकतर एंटीबायो टिक दवाइयां और इंजेक्शन दिए जाते हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टर्स की दवाइयों से मरीजों में होने वाले संक्रमण के कई मामले सामने आ चुके हैं।

   

FROM AROUND THE WEB