मर्डर केस के गवाह के ऊपर हुए प्राणघातक हमले में ब्राह्मणों का आक्रोश

इस दौरान हिंदू नेता मनुराज तिवारी ने भी लोगों से एकजुट होकर इस हमले में संलिप्त रहे आरोपियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की
 
मर्डर केस के गवाह के ऊपर हुए प्राणघातक हमले में ब्राह्मणों का आक्रोश

माधौगढ़-जालौन

भाजपा नेता की हत्या मामले में गवाह के ऊपर हुए प्राणघातक हमले के विरोध में ब्राह्मण संगठनों का विरोध बंगरा में देखने को मिला। ग्रामीणों में आक्रोश इतना था कि पूरे जिले भर के ब्राह्मण संगठन और ब्राह्मण युवा इकट्ठे होकर जोश में प्रशासन को घेरने में जुटे हुए थे। हालांकि काफी बड़ी संख्या में ब्राह्मणों के एकजुट होने से प्रशासन भी हलकान रहा। युवाओं के जोश से कोई अनहोनी न हो जाए इसके लिए माधौगढ़, जालौन, उरई और कोच सर्किल की फोर्स को बंगरा में तैनात करना पड़ा। बल्कि पीएससी भी बुलानी पड़ी।

माधौगढ़ कोतवाली के बंगरा में 13 जून 2016 को भाजपा नेता हरिओम पचौरी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जिसमें नामजद आरोपी शिवम गुर्जर और उसके साथियों के खिलाफ न्यायालय में मामला चल रहा है। मर्डर केस में पूर्व प्रधान पुत्र संदीप दीक्षित उर्फ सोनू घटना के चश्मदीद गवाह है। जिनके ऊपर इसके पहले भी कई बार हमले हो चुके हैं लेकिन 1 सितंबर को गवाही से लौटते वक्त सोनू के ऊपर प्राणघातक हमला हुआ। जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गए। इसके बाद ब्राह्मण युवाओं और ब्राह्मण संगठनों में उबाल आ गया।

मर्डर केस के गवाह के ऊपर हुए प्राणघातक हमले में ब्राह्मणों का आक्रोश

सोशल मीडिया पर बंगरा चलने की अपील होने लगी। जिसका नतीजा यह रहा है कि बंगरा के हीरा गेस्ट हाउस में सैकड़ों युवाओं की भीड़ कई ब्राह्मण संगठनों के तले इकट्ठी हो गई। जिसमें आशु चतुर्वेदी ने प्रशासन को आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी करने की मांग उठाई। हालांकि इस दौरान उन्होंने जोशीले ब्राह्मण युवाओं से होश न खो देने की अपील की और कानून व संविधान पर भरोसा जताकर कड़ी से कड़ी कार्रवाई कराने की हुंकार भरी। उन्होंने लोगों से कहा कि अगर प्रशासन समय रहते कार्रवाई नहीं करता तो फिर उनके पास साम, दाम, दंड, भेद का विकल्प मौजूद है।

इस दौरान हिंदू नेता मनुराज तिवारी ने भी लोगों से एकजुट होकर इस हमले में संलिप्त रहे आरोपियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा वह इसके पहले हिंदूवादी नेता थे लेकिन आज सोनू दीक्षित के लिए ब्राह्मण वादी नेता बनकर संघर्ष करने आये हैं। सभा को आदित्य शुक्ला, अंजनी मिश्रा, राजू पाठक आदि ने भी संबोधित किया।

मर्डर केस के गवाह के ऊपर हुए प्राणघातक हमले में ब्राह्मणों का आक्रोश

 इसके बाद अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा (रा) के बैनर तले आशु चतुर्वेदी,प्रमोद रिछारिया, विशंभर नारायण तिवारी, राजू पाठक, उमा बल्लभ शांडिल्य,गोपाल दांतरे, राहुल तिवारी सरकार,भगवंत, धम्मू दीक्षित, सुरेंद्र दीक्षित, मधुर चतुर्वेदी, चंदन चतुर्वेदी,राज पचौरी,सुजीत शर्मा ने एसडीएम सालिकराम को 7 दिन के अंदर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करने व आरोपियों की जमानत अर्जी को खारिज कराने का ज्ञापन सौंपा। इस दौरान माधवगढ़, रामपुरा, कोच, नदीगांव, जालौन की पुलिस और सीओ सिटी संतोष कुमार, सीओ माधौगढ़ शाहिदा नसरीन मौजूद रहे।

 

आक्रोश रैली में कुछ नेताओं की राजनीति भी चमकती दिखी। आये थे सोनू दीक्षित को न्याय दिलाने लेकिन खुद के लिए भी सहानुभूति बटोरने का करते रहे प्रयास। यही नहीं भाजपा नेता मनुराज तिवारी,आदित्य शुक्ला जैसे युवा नेताओं के बोलने में नाम तक कटवा दिए गए बाद में मनुराज को बुलाया गया तो इस पर भाजपा युवा मोर्चा के एक नेता से काफी हॉटटॉक हो गई।

FROM AROUND THE WEB