हाईटेक होंगी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिलेगा स्मार्ट फोन

 अब ऑनलाइन दर्ज होगा केन्द्रों का ब्योरा

 
जहां एक क्लिक में मिल जाएगा आंगनबाड़ी केन्द्र का पूरा ब्योरा

जहां एक क्लिक में मिल जाएगा आंगनबाड़ी केन्द्र का पूरा ब्योरा




स्वतंत्र प्रभात


महराजगंज। जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को हाईटेक किया जाएगा। इसके लिए उन्हें जल्द ही स्मार्ट फोन उपलब्ध कराया जाएगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं में स्मार्ट फोन वितरित करने की तैयारी शुरू कर दी गयी है। शासन स्तर से 2659 स्मार्ट फोन प्राप्त हो गया है। जल्द ही स्मार्ट फोन वितरित करा दिया जाएगा।


 इसके बाद एक क्लिक में आंगनबाड़ी केन्द्र का पूरा ब्योरा मिल जाएगा। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग के प्रभारी जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार शुक्ला ने बताया कि अब आंगनबाड़ी केन्द्रों की सभी जानकारियों को ऑनलाइन दर्ज करने के लिए स्मार्ट फोन उपलब्ध कराया जा रहा है। स्मार्ट फोन मिल जाने के बाद कार्यकर्ताओं द्वारा पोषण ट्रेकर एप पर केन्द्र के सभी लाभार्थियों की फीडिंग करायी जाएगी।


 इसी एप पर लाभार्थियों को पोषाहार का वितरण, लाभार्थियों की ग्रोथ मानीटरिंग तथा लाभार्थियों का सत्यापन आदि काम ऑनलाइन किया जाएगा।  इससे एक क्लिक में ही केन्द्र की सभी सूचनाएं मिल जाएगी, जिससे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहित मुख्य सेविका, बाल विकास परियोजना अधिकारी सहित अन्य उच्चाधिकारियों को सभी सूचनाएं प्राप्त हो जाएगी।


2659 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मिलेगा स्मार्ट फोन 


प्रभारी डीपीओ ने बताया कि जिले में कुल 3164 आंगनबाड़ी केन्द्र हैं। इनमें से 2659 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्ट फोन वितरित किया जाएगा। कुछ केन्द्रों पर अभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की नियुक्ति नहीं हो सकी है।


त्रिस्तरीय समिति ने करा लिया स्टाक का सत्यापन 


प्रभारी डीपीओ ने बताया कि शासन स्तर से स्मार्ट फोन मिलने के बाद जिलाधिकारी डॉ. उज्ज्वल कुमार ने स्टाक का सत्यापन करने के लिए तीन सदस्यीय समिति गठित की थी। समिति ने स्मार्ट फोन का सत्यापन कर लिया है। सत्यापन समिति में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी तथा जिला सूचना विज्ञान अधिकारी शामिल रहे।


जनप्रतिनिधियों के हाथों वितरित होगा स्मार्ट फोन 

प्रभारी डीपीओ ने बताया कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के बीच स्मार्ट फोन का वितरण जनप्रतिनिधियों के हाथों कराया जाएगा। इसके लिए जनप्रतिनिधियों (सांसद और विधायक) से निश्चित समय मांगा जा रहा है।
 

FROM AROUND THE WEB