राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 3663 वादों का हुआ निस्तारण आशुतोष तिवारी

 न्यायाधीश  कौशलन्द्र यादव ने मॉ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया गया

 
स्वतंत्र प्रभात

प्रबन्धक बैक ऑफ बडौदा  नेत्रमणी के द्वारा  जनपद न्यायाधीश को पुष्प देकर सम्मानित किया

स्वतंत्र प्रभात 
 


 


 

शाहजहांपुर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में दीवानी न्यायालय परिसर शाहजहॉपुर में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन सोशल  डिस्टेंसिंग का पालन करते हुये  जनपद न्यायाधीश  कौशलन्द्र यादव की अध्यक्षता में मॉ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया गया। इस मौके पर एम0ए0सी0टी0 पीठासीन अधिकारी  मनोज कुमार राय प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय,  नरेन्द्र बहादुर प्रसाद उपस्थिति में सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाहजहॉपुर

  आशुतोश तिवारी द्वारा संचालन किया गया। उप क्षेत्रीय प्रबन्धक बैक ऑफ बडौदा  नेत्रमणी के द्वारा  जनपद न्यायाधीश को पुष्प देकर सम्मानित किया एवं अग्रणी जिला प्रबन्धक चन्द्र शेखर जोशी द्वारा  जनपद न्यायाधीश एवं अन्य न्यायिक अधिकारियो को पुष्प देकर अभिवादन किया गया। जनपद न्यायालय शाहजहॉपुर में कुल 3663 वादों का निस्तारण किया गया। इसके अतिरिक्त बैंक एवं भारत संचार निगम लि0 प्री-लिटिगेशन के 1248 वादों का निस्तारण कर रू0 92989438/- में समझौता कराया गया तथा राजस्व विभाग द्वारा 1573 वादों का निस्तारण किया गया, पुलिस ई-चालानी के 2283 वादों का निस्तारण कर रू0 1239500/- की वसूली, उपभोक्ता फोरम के 06 वादों का निस्तारण कर रू0 174063/- में समझौता व श्रम विभाग से 04 वादों का निस्तारण कर रू0 3279000/- में समझौता हुआ। 

कौशलन्द्र यादव, जिला जज द्वारा 02 अन्य वादों का निस्तारण किया गया।  मनोज कुमार राय, पीठासीन अधिकारी मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण द्वारा 41 एम0ए0सी0पी0 व 115 अन्य वादों का निस्तारण कर अंकन 48621866/-रू0 प्रतिकर दिलाए जाने का आदेश किया गया।  नरेन्द्र बहादुर प्रसाद, प्रधान न्यायाधीश  परिवार न्यायालय द्वारा 40 वैवाहिक वादों का निस्तारण किया गया। किरन पाल सिंह अपर जिला जज कोर्ट सं0 01 द्वारा 04 फौजदारी   व 03 अन्य वादों का निस्तारण किया गया।  अखिलेष कुमार पाठक, अपर जिला जज कोर्ट सं0 2 द्वारा 210 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 17728200 में समझौता कराया गया।  नरेन्द्र कुमार तृतीय, अपर प्रधान न्यायाधीश  परिवार न्यायालय द्वारा 18 वैवाहिक वादों का निस्तारण किया गया।  एहसान हुसैन अपर जिला जज कोर्ट सं0 03 द्वारा 02 फौजदारी के वादों का निस्तारण कर अंकन 185500 /-रू0 अर्थदण्ड व 219 बैंक प्रीटिगेशन  वादों का निस्तारण कर अंकन 20748287 में समझौता कराया गया। 

प्रीति सिंह प्रथम, अपर जिला जज कोर्ट सं0 04 द्वारा 106 विद्युत वादों व 72 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 15300000 में समझौता कराया गया।  रष्मि नन्दा, अपर जिला जज कोर्ट सं0 8 द्वारा 06 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 3000/- रू0 अर्थदण्ड व  465 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 8535000 में समझौता कराया गया।  आलोक कुमार शुक्ला अपर जिला जज कोर्ट सं0 05 द्वारा 02 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 500/-रू0 अर्थदण्ड व 80 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 9952000 में समझौता कराया गया। पिन्कू कुमार अपर जिला जज कोर्ट सं0 42 द्वारा 120 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 18000000 में समझौता कराया गया। सिद्धार्थ कुमार वागव, अपर जिला जज कोर्ट सं0 43 द्वारा 02 अन्य वादों का निस्तारण व 68 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 2335400 में समझौता कराया गया।

मोहम्मद कमर अपर जिला जज/एफ0टी0सी0 14 बैंक प्रीटिगेशन वादों निस्तारण कर अंकन 390551 में समझौता कराया गया। आभा पाल, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा फौजदारी के 586 वादों का निस्तारण कर अंकन 141240/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। आनन्द प्रिय गौतम, सिविल जज सी0 डि0  द्वारा 16 सिविल वादों का निस्तारण कर अंकन 4044072.06/-रू0 उत्तराधिकार के रुप में दिलाये जाने का आदेश किया गया। दिनेश कुमार गौतम, ए0 सी0 जे0 एम प्रथम द्वारा 551 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 192250/-रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया।

  आरती द्विवेदी ए0सी0जे0एम0 द्वितीय द्वारा 231 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 11220/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। असमा सुल्ताना ए0सी0जे0एम0 तृतीय द्वारा 243 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 8360/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेष किया गया।  जुल्करनैन आलम, सिविल जज सी0डि0/एफ0टी0सी0 द्वारा 05 फौजदारी वादों का निस्तारण किया गया। मीनल चावला सिविल जज जू0 डि0 द्वारा 03 सिविल वादों का निस्तारण किया गया।  गीतिका सिंह, जे0 एम0 प्रथम, द्वारा 175 फौजदारी वादों का निस्तारण किया गया।  नितिशा चौधरी, सिविल जज जू0 डि0 तिलहर द्वारा 217 फौजदारी व 01 एन आई एक्ट व 01 सिविल वादों का निस्तारण कर अंकन 45000/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया।

अनुराग सिंह, अपर सिविल जज जू0 डि0 तिलहर द्वारा 258 फौजदारी कर अंकन 25530/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया।  युगल चन्द्र चौधरी, सिविल जज जू0 डि0 जलालबाद द्वारा 157 फौजदारी वाद का निस्तारण का कर अंकन 10000/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। अरविन्द्र कुमार सिंह सिविल जज जू0 डि0 पुवाया द्वारा 200 फौजदारी व 01 सिविल वादों का निस्तारण कर अंकन 5220 रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। रजत साहू, न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा 470 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 23650/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। राजीव कुमार पाल, न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा 78 फौजदारी वादों का निस्तारण कर अंकन 4600/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया।

भावना साहू, अपर सिविल जज जू0 डि0 द्वारा 01 सिविल वाद का निस्तारण किया गया। सक्षम शेखर, सिविल जज जू0 डि0/एफ0 टी0 सी0 द्वारा 82 फौजदारी वाद का निस्तारण कर अंकन 8400/- रू0 अर्थदण्ड के रुप में वसूल किये जाने का आदेश किया गया। संगीता, अपर सिविल जज जू0 डि0 द्वारा 01 अन्य वाद का निस्तारण किया गया। इसके अतिरिक्त यह राष्ट्रीय लोक अदालत अपने कुल मुकदमो के निस्तारण के मामले मे एवं ़ऋण रिकवरी सम्बन्धित मामलों में अभूतपूर्व एवं ऐसिहासिक है। कई सारे वैवाहिक जोड़े आज जनपद न्यायाधीश एवं प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायलय का आर्शीवाद लेकर साथ साथ विदा हुये है। एवं अपने तलाक की अर्जी को खारिज करायी। जिसमे सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण आशुतोश तिवारी, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शाहजहॉपुर का स्टाप व पुलिस विभाग का विशेष सहयोग रहा।  

FROM AROUND THE WEB