ग्राम पंचायत नूरापुर में चल रही सात दिवसीय संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ हुआ संपन्न

विशाल भंडारे का किया गया आयोजन

 
 स्वतंत्र प्रभात

भागवत कथा सुनने से होता है मन का शुद्धिकरण कथा व्यास श्री महंत हरगोविंददास जी  महाराज

 स्वतंत्र प्रभात 
 


कोठी सिद्धौर// नवरात्रि के उत्सव में संगीतमय श्री मदभागवत कथा ज्ञान को अपनी मधुर वाणी से कथामृत रथ का पान करा रहे लखीमपुर से पधारे कथा व्यास श्री महंत हरी गोविंद दास जी महाराज ने कहा कि कलयुग में भागवत साक्षात श्री हरि का रूप है


 पावन हृदय स्मरण मात्र करने पर करोड़ों पुण्य का फल प्राप्त हो जाता है इस कथा को सुनने के लिए देवी देवताओं भी तरसते हैं और दुर्लभ मानव प्राणी को ही इस कथा का श्रवण लाभ प्राप्त होता है कथा के श्रवण मात्र से ही प्राणी मात्र का कल्याण संभव है श्री महंत हरी गोविंद दास महाराज ने कहा कि कथा की सतर्कता तब ही सिद्ध होती है जब इसे हम अपने जीवन व्यवहार में धारण कर नियंत्रण हरि स्मरण करते हैं 


अपने जीवन को आनंदमय मंगल बनाकर अपना आत्म कल्याण करें अन्यथा यह कथा केवल मनोरंजन कानों के रस तक सीमित रह जाएगी भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है इससे संशय दूर होता है और शांति व मुक्ति मिलती है यह बात ग्राम नूरापुर में माता रानी के स्थान पर चल रही संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा में महंत हरगोविंद दास महाराज ने कथा का वाचन करते हुए कहा कि उन्होंने श्रीमद् भागवत कथा श्रवण से जन्म जन्मांतर के विकार नष्ट हो जाते हैं

 जहां अन्य युगो में धर्म लाभ एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए कड़े प्रयास करने पड़ते हैं कलयुग में कथा सुनने हैं मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है सोया हुआ ज्ञान वैराग्य कथा श्रवण से जागृत हो जाता है कथा कल्पवृक्ष के समान है इससे सभी इच्छाओं की पूर्ति की जा सकती है व्यास जी ने कहा भागवत पुराण में हिंदुओं के अट्ठारह पुराणों में से एक है इसे श्रीमद भागवत कथा या केवल भगवतम भी कहते है 

दिनांक 15 अक्टूबर को विशाल भंडारे का आयोजन किया गया है जिसमें लल्लन सिंह धर्मेंद्र सिंह शिवम सिंह सभी ग्रामवासी मित्रगण आदि
 

FROM AROUND THE WEB