स्वतंत्र प्रभात-बिश्नोई समाज पहलवान बेटी का सम्मान करे – कृपाशंकर बिश्नोई

 

 भारत में कुल जनसंख्या का 5 प्रतिशत जाट हैं ।

फिर भी ठाट है, 21वें राष्ट्रमंडल खेलों मेँ जाटो ने देश के लिये सबसे अधिक पदक जीतकर फिर बता दिया कि 5% जाट भारत की रीढ है । मेरा मानना है सभी समाज के लोगो को जाटो का अनुसरण करना चाहिए |

नकारात्मक राजनीति को छोड़ कर देश हित में कार्य करना चाहिए |

मुझे दुःख है की भारत में बिश्नोई लोगो को खेलो में कोई रूचि नहीं है | खेलों का ज्ञान नहीं होने के कारण राष्ट्रमंडल खेलों में जीते पदको की अहमियत का अकाल करने में बिश्नोई समाज असमर्थ है, यह बात समझने की जरूरत है यह दौर नकारात्मक राजनीति का नहीं बल्कि सकारात्मक राजनीति का है नकारात्मक राजनीति करने से समय और ऊर्जा दोनों की बर्बादी होती है

समाज के युवायो को नकारात्मक राजनीति करने से बचना चाहिए | राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जितना सांसद, विधायक और नेता बनने से बड़ी उपलब्धि है यह समाज के लोगो को समझना होगा, बच्चे खेलो के प्रति जागरूक तभी होंगे जब अभिभावको को खेलो के महत्व की जानकारों होगी | यह बात देश के प्रसिद्ध कुश्ती कोच कृपाशंकर बिश्नोई ने कही |

सभी को पता होना चाहिए की हाल ही में, बिश्नोई समाज व हिसार की पहलवान बेटी किरण बिश्नोई ने महिलाओं के 76 किग्रा भार वर्ग के कुश्ती मुकाबले में मॉरीशस की कताऊस्किया परिधावेन को एकतरफा अंदाज़ में 10-0 से हराकर राष्ट्रमंडल खेलों का कांस्य पदक जीता |

इसी जीत के साथ उन्होंने एक कीर्तिमान भी स्थापित कर दिया | महिला हैवीवेट में पदक जितने वाली किरण देश की पहली महिला पहलवान बन गई है, इससे पहले, कोई भी भारतीय महिला पहलवान राष्ट्रमंडल खेलों के सुपर हेवीवेट में यह कारनामा नहीं कर पाई |

इस महिला पहलवान का जितना सम्मान किया जाए उतना कम है | उन्होंने बिश्नोई समाज व हिसार बिश्नोई सभा और अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा से समाज की पहलवान बेटी किरण को सम्मानित करने के लिए आग्रह किया है |

सम्मान खिलाड़ी के साहस को बढ़ाता है | ताकि किरण आगे अगस्त में होने वाले एशियाई खेलो में भी देश और समाज के लिए पदक जीते |

MANAV NAGAR
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment