स्वतंत्र प्रभात-दलित की मासूम बेटी को पड़ोसी युवकों ने जिंदा जलाया, यह है पूरा मामला

 

ह​​र्षित मिश्रा

कानपुर।

दलितों पर हो रहें आय दिन अत्या चार थमने का नाम नहीं ले रहा है अभी हालहि में बाबा भीमराव अम्बेडक की मूर्ती तोड़े जाने को लेकर बेतहाशा जगह—जगर बवाल हुआ थ। आगे भी  दलीतों पर अत्याचार को लेकर दलीतों में खासा आक्रोश व्याप्त रहा है।

ऐसा ही मामला कानपुर देहात की रहने वाली दलित की मासूम बेटी को युवकों को प्रताढ़ित कर जिन्दा जला देने का सामने आया है।
मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात के राजपुर थाना क्षेत्र के बैना गांव में पानी भरने को लेकर हुए विवाद में तीन दबंग युवकों ने एक दलित किशोरी को मिट्टी का तेल डालकर जिन्दा जला दिया। गंभीर रूप से झुलसी किशोरी को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से उसे कानपुर के हैलट अस्पताल रेफर किया गया है। वहीं मामले की जांच कर रही पुलिस का कहना है कि लड़की के खुद अपने आप को आग लगाने की बात सामने आई है। हालांकि पुलिस अभी जांच-पड़ताल कर रही है। 


जानकारी के मुताबिक राजपुर थाना क्षेत्र के बैना गांव निवासी दलित रमेश चंद्र संखवार की बेटी निधि संखवार ने इस साल हाईस्कूल की परीक्षा दी है। बताते हैं कि शनिवार देर शाम निधि पड़ोस में लगे सरकारी हैंडपंप पर पानी भरने गई थी।

जहां उसका पड़ोस में रहने वाले रमेश के दबंग बेटो सोनू, नीरज और वीरू से पहले पानी भरने को लेकर विवाद हो गया।

आरोप है कि युवको ने उससे मारपीट की और उसकी बाल्टी फेंक दी। विरोध करने पर तीनों ने अपने दो दोस्तों के साथ उसे पीटा और घर की ओर दौड़ी छात्रा को पकड़ लिया और मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी और फरार हो गए।

किशोरी की चीख-पुकार सुन कर मौके पर पहुंचे लोगों ने आग बुझाई और परिजनों व पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने किशोरी को अस्पताल में भर्ती कराया जहां से उसे कानपुर के हैलट अस्पताल रेफर कर दिया है l


पुलिस ने आरोपी सोनू नीरज वीरू और उनके दोस्त रज्जन और सरजू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। हालांकि राजपुर एसओ का कहना है कि विवाद के बाद लड़की के खुद आग लगा लेने की बात सामने आई है। उन्होंने कहा कि फिलहाल जांच-पड़ताल की जा रही है। आरोपियों की तलाश जारी है। 

HARSHIT MISHRA
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment