स्वतंत्र प्रभात-राजधानी में अवैध निर्माण  को लेकर दबंगों का खुनी संघर्ष ,दर्जन भर घायल

 

 

राजधानी में अवैध निर्माण  को लेकर दबंगों ने अंजाम दिए खूनी संघर्ष को दर्जनभर हुए घायल

प्रशांत तिवारी

स्टेट क्राइम रिपोर्टर

राजधानी में अवैध निर्माण  को लेकर दबंगों ने अंजाम दिए खूनी संघर्ष को दर्जनभर हुए घायल

राजधानी लखनऊ के अन्दर अपराध रोकने में लखनऊ  पुलिस है नाकाम। मानो अपराध का राजधानी से हो गया है अन्योन्याश्रय संबंध।

 

स्वतंत्र प्रभात-राजधानी में अवैध निर्माण  को लेकर दबंगों ने अंजाम दिए खूनी संघर्ष को दर्जनभर हुए घायल

 

राजधानी की पुलिस अपने बेड वर्क के चलते  इतना फेमस  हो चुकी है कि क्राइम होने का पहले से इंतजार करती रहती है जब तक मामला कंट्रोल मैं होता है तब तक ध्यान देने का कोशिश भी इनके द्वारा नहीं होता है

ताजा मामला बीकेटी  थाना क्षेत्र के बनौर गांव के  पीछे गांव के ही दबंगों ने जमकर मारपीट और उत्पात मचाया  आस पास के लोगों में अफरा तफरी मच गई। जिसकी सूचना ग्रामीणो ने 100 नंबर पर दिया। सूचना पर दो घन्टे बाद पहुंची पुलिस जब तक मामला समझ पाती तब तक खूनी संघर्ष से खेल खत्म हो चुका था। वहीं प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दोनों पक्षों में इतना खूनी संघर्ष  हुआ कि एक दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए।

 जिसमें महिलाओं की संख्या मे ज्यादा बढ़ोतरी रही दबंगों ने लाठी डंडा के साथ कपड़े तक महिलाओं के फाड़ दिए । थाने पर पहुंची महिलाओं ने थाने के बाहर ही जमकर विलाप किया जिससे कुछ देर तक सडक भी बाधित रही।

 

लोगों ने बताया कि ग्रामीण दबंगों के लड़ाई में जमकर लाठी-डंडे व सरिया और जमकर पथराव भी हुआ। जिसमें दर्जनों लोग घायल हो गए।

बीकेटी थानाध्यक्ष  का कहना है कि घायलों को डॉक्टरी के लिए भेज दिया गया है जबकि पत्रकारों के दबाव में  पीड़ित परिवार को  मेडिकल के लिए भेजा गया वहीं दोनों पक्षो से मिली तहरीर पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही l

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीकेटी के गांव बनौर मैं दबंगों द्वारा कराया जा रहा था ग्राम समाज की जमीन पर अवैध निर्माण।

ग्राम प्रधान और पुलिस की मिलीभगत से हो रहा था अवैध निर्माण की शिकायत के लिए अर्जी लेकर पहुंचे ग्रामीणों को ही पुलिस ने थाने में बैठा लिया इन बातों से यह साफ होता है कि  बीकेटी पुलिस गांव के दबंगों के साथ मिलकर यह निर्माण करवा रही थी ग्रामीणों ने यहां तक कहा कि गांव में इस मसले को लेकर मारपीट हो सकती है फिर भी स्थानीय पुलिस  लाठी डंडे नहीं रोक पाई।

पुलिस और दबंगों की लुकाछिपी में अवैध निर्माण अपने आखरी पड़ाव पर मौके पर स्लैब डालने वाली मशीन मौजूद हंड्रेड डायल के आने पर काम को रोक दिया जा रहा है और उनके जाने के बाद काम शुरू हो जाता है l

इन सारी बातों का पल पल घटना करम पुलिस को बताया जा रहा था फिर भी लोकल पुलिस कान में रुई डालकर सो रही थी । 

गांव के दो गुटों में लाठी  चल गए फिर भी घंटों बाद पहुंची पुलिस पीड़ित परिवार पर ही करवाई करने को अम्मादा दिखी।

दबी जुबान से ग्रामीणों ने बताया कि बीकेटी थाना मिल चुका है तभी यह निर्माण हो रहा है और प्रधान जी इस को अंजाम दे रहे हैं

अवैध निर्माण को अंजाम देने वाले लोगों में बनवारी पिंटू बृजपाल सूरजपाल कवरेज पर गए पत्रकारों को मौके पर मारने और डराने का काम कर रहे थे तब तक  शराब के नशे में गांव के दबंगों ने  पीड़ित परिवार के ऊपर लाठी-डंडे शरीये  और घूमे से वार कर दिया।

 

जिसकी वजह से पीड़ित परिवार लहूलुहान हो गई इस सारे मामले का सूचना SDM बीकेटी सीओ बीकेटी s p r a सभी को सूचना होने के बावजूद लाठी डंडे और सरिया चलना पुलिस प्रशासन पर कलंक की तरह या यूं कहें तो राजधानी पुलिस पर ना मिटने वाला कलंक लग चुका है l

 
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment