स्वतंत्र प्रभात-स्वास्थ्य : प्रदूषण की मार से बचा सकते हैं ये 10 घरेलू नुस्खे

प्रदूषण की समस्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती रही है तथा इसके दुष्प्रभाव से बचने के सभी उपाय भी कमजोर होते जा रहे हैं। इस समस्या से निदान पाने के लिये कुछ घरेलु उपाय अपना कर खुद का तथा परिवार के सदस्यो का स्वास्थ्य ठीक रखा जा सकता है :

 

 

1. तुलसी

घर में तुलसी का पौधा होने से यह प्रदूषकों को अवशोषित करने का करता है। तुलसी का रोजाना दस से पंद्रह मिलीलीटर जूस पीने से श्वसन तंत्र बढ़िया रहता है। यह श्वसन तंत्र से प्रदूषकों को साफ रखने में कारगर है।

 

2. भाप

प्रदूषण से बचाव के लिए भाप काफी कारगर होती है। यूकेलिप्टस या पुदीने की तीन से चार बूंदे मिलाकर भाप लेने से प्रदूषक तत्वों का शरीर में बुरा प्रभाव नहीं होता। साथ ही यह भाप के माध्यम से शरीर से निकल जाते हैं।

 

3. साग और गाजर

चौलाई का साग, मूली के पत्ते और गाजर मे बीटा कैरोटिन नाम का ऐसा एंटी-ऑक्सिडेंट पाया जाता है जो कि जलन को निंयत्रित रखने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए चौलाई का साग, मूली के पत्ते और गाजर खाना चाहिए।

 

4. नींबू , अमरूद, गोभी आदि

विटामिन सी पानी में घुलनशील होने के कारण शरीर के लिए सबसे शक्तिशाली एंटी-ऑक्सिडेंट माना जाता है। इसलिए गोभी, शल्जम , धनिया के पत्ते, आंवला, अमरूद, नींबू का रस आदि लेते रहना चाहिए।

 

5. सूरजमुखी, बादाम

वसा में घुलनशील विटामिन-ई हमारे उतकों को क्षतिग्रस्त होने से बचाता है। इसका प्रमुख खाना बनाने में उपयोग किए जाने वाले तेल जैसे कि सूरजमुखी आदि शामिल हैं। इसके अलावा ये जैतून के तेल में भी मौजूद होता है।

 

6. मेथी , सरसों

वायु प्रदूषण हमारे शरीर में कई परेशानियां पैदा करता है। ऐसे में दिल के स्वस्थ रखने के लिए अखरोट, अलसी के बीज को दही में डालकर खाना ठीक रहता है। मेथी के बीज, सरसों के बीज, पत्तेदार सब्जियां आदि में ओमेगा 3 मौजूद होता है।

 

7. हल्दी

हल्दी के औषधीय गुण वायु प्रदूषण से भी बचाने के काम आते हैं। प्रदूषण के दुष्प्रभावों से फेफड़ों को बचाने में यह काफी कारगर है। हल्दी को घी के साथ खाने से खांसी और अस्थमा में आराम मिलता है।

 

8. हरीतकी

यदि आप हरीतकी को गुड़ के साथ मिश्रित करके सोने से पहले और सुबह में लें तो इससे कफ में आराम मिलता है। यही नहीं अस्थमा के दौरान भी आयुर्वेद कड़वी और कसैली फूड से भरपूर होता है।

 

9. नीम

नीम प्रदूषकों को अवशोषित करने का काम करता है। इससे त्वचा, बालों को धोने से प्रदूषक तत्व नुकसान नहीं पहुंचा पाते हैं। अगर संभव हो नीम की तीन से चार पत्तियां खाएं इससे खून साफ होता है और प्रतिरक्षा तंत्र बेहतर होता है।

 

10. अनार

अनार का जूस जहां एक तरफ खून साफ करता है तो दूसरी तरफ यह दिल की सेहत को मजबूत करता है।

 

 

 


AMIT PRAKASH SRIVASTAVA
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment