स्वतंत्र प्रभात-आम जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है बीजेपी सरकार

 

प्रशांत तिवारी

 स्टेट संवादाता

आम जनता का ध्यान भटका रही है बीजेपी सरकार

 एटीएम से कैश की कमी दिखाकर उन्नाव  कठुआ  कांड से ध्यान भटका रही है बीजेपी सरकार

समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया है कि भाजपा अपनी नाकामयाबियों से देश की जनता का ध्यान भटकाने का काम कर रही है बीजेपी मोदी सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए आम जनता का ध्यान भटकाने  एक नया पैतरे के साथ मीडिया के सामने अपने आप को उपस्थित कर देती है

उन्नाव और कठुआ जैसे कई गैंगरेप कांड के बाद बैकफुट पर आई मोदी भाजपा सरकार ATM और बैंकों से पैसे की कमी दिखाकर आम जनता का ध्यान दूसरी तरफ ले जाना चाहती है।

समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी सरकार ने कठुआ, सूरत और उन्नाव में हुई बलात्कार की घटनाओं पर से लोगों का ध्यान बटानें के लिये नोटबंदी जैसी स्थिति पैदा कर दी है।

सपा महासचिव रमाशंकर राजभर ने आज कहा कि कठुआ, सूरत और उन्नाव में बलात्कार की हुई घटानाओं से देश की जनता का ध्यान हटाने के लिये नोटबंदी जैसी स्थिति पैदा की जा रही है। 

उन्होंने कहा कि कठुआ, सूरत और उन्नाव की बलात्कार की घटनाओं ने देश को शर्मसार किया है। ये घटनायें विदेशी मीडिया की सुर्खिया बन रही हैं।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चार दिन की विदेश पर यात्रा पर घूम रहे हैं। इतनी बड़ी घटनाओं पर देश के प्रधानमंत्री की चुप्पी जनता की समझ से परे है।

विदेशी मीडिया में अपनी किरकरी करा चुकी बीजेपी अब आम जनता को गुमराह करने वाली परिस्थितियों को दिखाकर ध्यान हटाना चाहती है भारत की छवि धूमिल होने वाली घटनाएं पिछले 1 महीने से जारी  है

जिसको छिपाने के लिए या आम जनता का ध्यान  भटकाने के लिए BJP मोदी सरकार एक नया तिकड़म  जिसको देश के लिए कह सकते हैं नोटबंदी जैसे हालात दोबारा से पैदा करवा रही है

 देश में नोटमंदी का ताना बाना बुन कर जनता को परेशान किया जा रहा है। सपा महासचिव ने कहा कि भाजपा बलात्कार की इन घटनाओं से देश की जनता का ध्यान भटकाने के लिये यह सबकुछ कर रही है। यह भाजपा का नया खेल है। इस समय शादी ब्याह का समय है।

नोटबंदी जैसी स्थित के कारण पूरे देश की जनता तबाह है। एटीएम खाली चल रहे हैं और प्रधानमंत्री विदेश में घूम रहे हैं। जनता अब भाजपा की सरकार को समझ गयी है और इसका जवाब वह 2019 के लोकसभा चुनाव में देगी।

आने वाले चुनाव में देश की जनता एक एक मुद्दों को ध्यान में रखकर जवाब भी मांगेगी जहां जवाब देना मुश्किल साबित होगी

 

PRASHANT TIWARI
recommend to friends

Comments (0)

Leave comment