राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा पांचजन्य पुस्तिका का हुआ विमोचन

भारत की सांस्कृतिक विरासत को बनाए रखने के उद्देश्य से किया गया था। 
 
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा पांचजन्य पुस्तिका का हुआ विमोचन

स्वतंत्र प्रभात 

फतेहपुर-बाराबंकी। 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय में  साप्ताहिक पत्रिका पांचजन्य के उत्तर प्रदेश विशेषांक का विमोचन किया गया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह विभाग प्रचारक कौशल किशोर जी, संघसंचालक राजाराम,विभाग कार्यवाह, माता पल्टन ने संयुक्त रूप से विशेषांक का विमोचन किया। उक्त कार्यक्रम में सह विभाग प्रचारक कौशल किशोर ने कहा कि पांचजन्य का उद्देश्य अंग्रेजों से आजादी दिलाने, राष्ट्र विरोधी ताकतों को उजागर कर भारत की सांस्कृतिक विरासत को बनाए रखने के उद्देश्य से किया गया था। 

पांचजन्य की शुरुआत 14 जनवरी 1948 को मकर संक्रांति के दिन हुई थी। पांचजन्य के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय थे। इसके प्रथम संपादक अटल बिहारी बाजपेई रहे। यह कम गौरव की बात नहीं है कि किसी व्यक्ति का स्वामित्व अथवा औद्योगिक घराने की छत्रछाया से बाहर रहकर भी पांचजन्य साप्ताहिक अपनी स्वर्ण जयंती मना चुका है और उस स्वर्ण जयंती वर्ष में इसके प्रथम संपादक प्रधानमंत्री पद पर आसीन हुए। कार्यक्रम के अंत में सह विभाग प्रचारक ने जिले से आए कार्यकर्ताओं को पांचजन्य में प्रकाशित बिंदु एवं विचारधाराओं पर चलने का आग्रह किया। समन्वय बैठक सम्पन्न हुई जिसमें पाञ्चजन्य पत्रिका वितरित कर पुस्तक का विमोचन किया गया बैठक में राजेन्द्र, अभिषेक, इन्दु, गणेश, प्रेमदीप, रंजीत उपस्थित रहे।


 

FROM AROUND THE WEB