अमेरिका ने की UN सदस्य देशों से की अपील, रूस को परमाणु हमले की धमकी देने से रोके

 
अमेरिका ने की UN सदस्य देशों से की अपील, रूस को परमाणु हमले की धमकी देने से रोके  

स्वतंत्र प्रभात 

यूक्रेन और रूस के बीच 24 फरवरी से शुरू हुआ युद्ध लगातार जारी है. दोनों देशों के बीच जंग का आज गुरुवार को 30वां दिन है. तमाम कोशिशों के बाद भी युद्ध रोकने को लेकर रूस-यूक्रेन अब तक किसी हल पर नहीं पहुंच सके हैं. चौतरफा दबाव के बीच अब रूस की तरफ से परमाणु हमले की धमकी और तेज हो गई है. बीते 24 घंटे में रूस दो बार यूक्रेन पर परमाणु हमला करने की धमकी दे चुका है.

24 घंटे में दो बार दी न्यूक्लियर अटैक धमकी 
यूक्रेन पर हमलों को लेकर रूस पर पश्चिमी देश लगातार दबाव बना रहे हैं. यूक्रेन पर जारी रूसी हमले को लेकर आज गुरुवार को NATO और अमेरिका के बीच बैठक भी होनी है. NATO के हर एक कदम से रूस की बौखलाहट सामने आ रही है. यूक्रेन पर परमाणु हमले की ताजा धमकी अमेरिका में रूस के उप राजदूत दिमित्री पोलांस्की (Dmitry Polyanskiy) की तरफ से आई है. इससे पहले क्रेमलिन के प्रवक्ता Dmitry Peskov ने यूक्रेन पर परमाणु हमले की बात कही थी. यूक्रेन को लेकर रूस की तरफ से परमाणु हमले की यह 24 घंटे में दूसरी धमकी है.

सबसे ज्यादा परमाणु हथियार रूस के पास
क्रेमलिन के प्रवक्ता Dmitry Peskov ने एक दिन पहले बुधवार को यूक्रेन को लेकर परमाणु हमले की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि अगर रूस के सामने 'अस्तित्व का खतरा' आएगा तो वह परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करेगा. याद दिला दें कि दुनिया में परमाणु हथियार की सबसे ज्यादा खेप रूस के ही पास है.

जेलेंस्की ने की युद्ध रोकने की अपील
उधर, युद्ध से जूझ रहे यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की बार-बार दुनिया से रूस पर दबाव बनाने और युद्द रोकने की अपील कर रहे हैं. जेलेंस्की ने कहा है कि सभी देशों को मिलकर रूस को रोकना होगा. रूस के सख्त रवैये को लेकर पुतिन अपने देश में भी घिरने लगे हैं. यूक्रेन पर रूसी हमलों के खिलाफ रूस में आवाजें उठने लगी हैं.

बाइडेन ने रूस को हरकतों को गैर जिम्मेदार बताया 

बाइडेन ने कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन द्वारा यूरोप पर परमाणु हथियारों से हमले की नई धमकी से पता चलता है कि रूस परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) पर हस्ताक्षर करने के बावजूद गैर जिम्मेदाराना तरीके से उसके प्रावधानों की धज्जियां उड़ा रहा है। हम रूस के हमले के विरुद्ध एकजुट होकर खड़े रहेंगे।

   

FROM AROUND THE WEB