जायदाद की खातिर मोहब्बत को मोहरा बनाकर लेली युवक की जान, 4 नाम जद।

काफी मसक्कत के बाद तीसरे दिन उसकी लाश बरामद हो पायी
 
काफी मसक्कत के बाद तीसरे दिन उसकी लाश बरामद हो पायी

 स्वतंत्र प्रभात 
 


बस्ती जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र में एक सनसनीखेज मामला  का खुलासा हुआ जायदाद की लालच में मोहब्बत को मोहरा बनाकर एक पूरे कुनबे ने ऐसा जाल बुना, जो युवक की जान का दुश्मन बन गया। शहर के एक होनहार युवक को साजिश के तहत फंसाकर उसका उत्पीड़न करते हुए उसे बेहद दर्दनाक तरीके से खुदकुशी करने पर मजबूर कर दिया। परेशान युवक ने स्थानीय अमहट के पुराने पुल पर लगी जाली पर चढ़कर नदी में छलांग लगा दी और लापता हो गया था। काफी मसक्कत के बाद तीसरे दिन उसकी लाश बरामद हो पायी

 घटना गत ग्यारह अक्टूबर सोमवार सायं की है। शहर के मोहल्ला पिकौरा शिव गुलाम निवासी करीब पचीस वर्षीय मयंक मिश्र उर्फ मुनि पुत्र जयदेव मिश्र ने लड़की और उसके परिवार वालों की प्रताड़ना से तंग आकर कुआनो में कूद कर जान देने का खौफनाक कदम उठा लिया। घटना की सूचना मिलते ही शहर कोतवाल शिवाकांत मिश्र ने गोताखोरों को बुलाकर तलाश शुरू कराई। 

पता न चलने पर एनडीआरएफ की टीम को बुलाया गया। मंगलवार को भी काफी मसक्कत के बावजूद लाश की तलाश न हो सकी। अथक प्रयास के बाद बुधवार तेरह अक्टूबर की सुबह एनडीआरएफ टीम ने मयंक उर्फ मुनि की लाश मिली। घटना की सूचना पर तहसीलदार सदर चंद्रभूषण, कोतवाल शिवाकांत मिश्र, चेक पोस्ट अमहट प्रभारी संजय कुमार यादव मौके पर डटे रहे।

मामले में स्थानीय शहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसमें सम्पत्ति के लालच मे प्रेम जाल मे फंसा लेने तथा सम्पत्ति की लालच में आत्महत्या करने के लिए उकसाने और मयंक मिश्र उर्फ मुनि मिश्र द्वारा अमहट पुल से नदी मे कुदकर आत्महत्या करने के मामले में बस्ती जिले के दोफड़ा थाना दुबौलिया निवासी अनामिका दूबे पुत्री ओम प्रकाश दूबे, सुनीता देवी उर्फ अनीता देवी पत्नी ओमप्रकाश दूबे, हर्रैया थाने के बिहरा भलुहिया निवासी आकांक्षा दूबे पत्नी दिनेश दूबे एवं दिनेश दूबे पुत्र बृज नन्दन दूबे के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है।

FROM AROUND THE WEB