अस्थाई मंडी गौशाला में इंतजाम न होने के चलते दम तोड रहे गौवंश

 अस्थाई मंडी गौशाला में इंतजाम न होने के चलते दम तोड रहे गौवंश


अस्थाई मंडी गौशाला में इंतजाम न होने के चलते दम तोड रहे गौवंश


कहां गया जनपद का भूसा बैंक


तालबेहट। Sunil tripathi

जहां योगी व मोदी सरकार अन्ना गौवशों की सुरक्षा संरक्षा के लिए गांव गांव गौशाला खोल कर गौवंशों को सुरक्षित करने का प्रयास कर रही है। मगर जिम्मेदारों द्वारा पर्याप्त इंतजाम न होने के चलते कई गौशालाओं में गौवंश दम तोड रहे है।

तरगुंवा स्थित गल्ला मंडी में बनी गौशाला में दम तोड चुके दर्जनों गौवंश के शवों की दुर्गंध आने से मामले का खुलासा हुआ। गौवशों की देखरेख के लिए भी महीनों पशु डाक्टर नही आते है। जिससे लगातार गौवंश मौत के शिकार हो रहे। मगर इसके बावजूद जिम्मेदार बेखबर है। 


राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित बंद पड़ी गल्ला मंडी में पूर्व जिलाधिकारी द्वारा ग्राम प्रधानों से भूसा लेकर अस्थाई गौशाला शुरू की थी। जिसकी व्यवस्थाओं की देखरेख के लिए लेखपाल, सचिव व ग्राम प्रधान केा जिम्मेदारी दी गई थी। जहां वीते एक दो माह से लगातार गौवशों की मौत होती जा रही है।

जिन्हे चौकीदार द्वारा पास ही बने एक गड्ढे में डाल दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि इस गौशाला में प्रतिदिन दो से तीन गौवंश दम तोड़ते है। जब दर्जनों गौवशों के शव से दुर्गंध उठी तो ग्रामीणों का ध्यान इन मृतक गौवशों पर गया। 

उपजिलाधिकारी मु. कमर का कहना है कि बूढी गायों की स्वाभविक मौत हुई है तथा उनका डिस्पोजल सही ढंग से नही किया गया। लपारवाहों पर कार्यवाही की जाऐगी।

 

Comments