निर्माणाधीन बलिया एक्सप्रेस वे पर खनन माफियाओं का धावा 

निर्माणाधीन बलिया एक्सप्रेस वे पर खनन माफियाओं का धावा 


किसानो की जमीन से जबरदस्ती करवा रहे खनन 

रिपोर्ट - इद्रीश 

बाराबंकी।

बलिया एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य बड़ी जोर से चल रहा है जिसमे मिट्टी पटाई का कार्य कराया जा रहा है जिसमे ठेकेदार ग्रामसभा की  सरकारी व निजी जमीनो ऊसर बंजर व तलाब से बगैर परमिट खनन कर रहे है अगर कुछ जगहो की परमिट भी है तो मानक से ज्यादा खनन कर रहे है खनन विभाग व स्थानीय अधिकारी आंख मूंदकर बैठे हुए है रात दिन खनन करवा कर मिट्टी डम्फरो से ढोयी जा रही है जिससे सड़के खस्ताहाल हो गयी है राहगीरो का चलना दूभर हो गया है।

सुबेहा क्षेत्र के अन्तर्गत उमरवल कृसिया गांव मे आबादी से सटे तालाब मे मिट्टी खनन चल रहा था जैसे ही पत्रकार वहां पहुचे  वैसे ही डम्फर चालकों मे हड़कम्प मच गया और मौके से भागना शुरु कर दिया थोडी देर बाद ठेकेदार भी वहां आ पहुंचे और रौब झाड़ना षुरू कर दिया और जब परमिट की जानकारी किया तो पता चला की उनके पास कोई परमिट के कागजात ही नही है, अगले दिन कागज दिखाने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया।

सुबेहा क्षेत्र के उमरवल गांव से सटे कई जगहों पर खनन कार्य चल रहा है  इसके अलावा उमेद का पुरवा मे एक तलाब पर खनन कर गहरी खाई बना चुके थे, जब ठेकेदार से परमिट की जानकारी ली गयी तो उनका कहना था कागज कम्पनी के पास जमा है और इसका जियो है उसी के मुताबिक तालाब से मिट्टी खनन करवायी जा रही है जिलाअधिकारी के आदेश पर ही मिट्टी खनन करवाया जा रहा है। स्थानीय किसानो का कहना था की ठेकेदार उसके नुकसान के हिसाब से मुवावजा नही दे रहे है और माँगने पर झगड़ा मार पीट पर अमादा हो जाते है और धमका कर मिट्टी खनन कर फरार हो जा रहे है।  

इस सम्बन्ध में कार्य करा रहे ठेकेदारो का कहना था कि सरकार से कोई मुवावजा निर्धारित नही है, सरकारी भूमि पर खनन करा सकते है क्योंकि यह सड़क भी सरकार की है यदि कोई किसान नही मानता तो फिर किसान के मुताबिक जो उचित होता है उसे दे दिया जायेगा। सुबेहा क्षेत्र के कुड़वा, कोलवा, मठ मे तो कई जगह सरकारी जमीन पर खनन कर तहसनहस कर दिया गया जो कभी भी आकर देखा जा सकता है। वही हल्का  लेखपाल से जब इसकी जानकारी करने की कोशिश की गयी तो गोलमाल करते रहे  कुछ स्पष्ट जवाब नही दे सके और जब उपजिलाधिकारी हैदरगढ़ से सम्पर्क किया तो उनका फोन से सम्पर्क से बाहर था।

उसके बाद अपर जिलाधिकारी से सम्पर्क किया गया तो उनका कहना था की कुछ तालाबो का परमिट जारी हुआ है वह भी मानक से ज्यादा मिट्टी नही खोद सकता है अगर कोई ठेकेदार बगैर परमिट खनन करवा रहा है तो गलत है इसकी जांच करायी जायेगी और उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जायेगी ।


 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments