मानव जीवन के लिए प्राकृतिक स्त्रोतों का संरक्षण नितांत आवश्यक है:ललित किशोर कुमार 

मानव जीवन के लिए प्राकृतिक स्त्रोतों का संरक्षण नितांत आवश्यक है:ललित किशोर कुमार 

बांका: 

शिक्षा के क्षेत्र में बेहतरीन समाजिक सरोकार कार्य कर रही संगठन आदित्य पूजा सेवा संस्थान के द्वारा शहर स्थित अभ्यास मध्य विद्यालय में संचालित आदित्य सुपर-50 कोचिंग सेन्टर के बच्चों के द्वारा विश्व जैव विविधता दिवस के अवसर पर पौधारोपण किया गया।

इस मौके पर उपस्थित संस्था के सचिव सह संस्थापक ललित किशोर कुमार ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र संघ ने 22 मई को अंतरराष्ट्रीय जैव विविधता दिवस घोषित किया था। इस दिवस को मनाने का मूल उद्देश्य लोगों को जैव विविधता के बारे में जागरूक करना है।

उन्होंने बताया कि हमें बचे हुए प्राकृतिक स्त्रोतों का संरक्षण करना चाहिए।सभी बच्चों को संबोधित करते हुए युवा समाजसेवी ललित किशोर कुमार ने बताया कि वन्य जीवन तथा विभिन्न पेड़ पौधों की प्रजातियों में अत्याधिक विविधता पाई जाती है। लेकिन फिर भी एक दूसरे पर निर्भरता के कारण उनका निकट का संबंध है।

संस्थापक सह सचिव ललित किशोर कुमार ने बताया कि पेड़ पौधे तथा जीव जंतु वातावरण को शुद्ध करते हैं, धरती की उर्वरक शक्ति को बढ़ाते हैं। धरती पर लंबे मानव जीवन के लिए प्राकृतिक स्त्रोतों का संरक्षण नितांत आवश्यक है।बच्चों ने बताया कि मनुष्य जानकारी के अभाव में तथा निहित स्वार्थो की पूर्ति के लिए प्रकृति व पर्यावरण को लगातार हानि पहुंचा रहा है तथा जिसके भविष्य में गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

उन्होंने बच्चों को बताया कि एक अनुमान के मुताबिक भारत में 10 प्रतिशत पेड़ पौधे तथा 20 प्रतिशत स्तनधारी प्रजातियां खतरे में हैं।वही मौके पर उपस्थित संस्था के मुख्य वरीय पदाधिकारी पूजा कुमारी सिंह ने बतायी कि  सरकारी आमजन की उदासीनता के कारण अनेक प्रजातियों के पशु, पक्षी पौधे लुप्त होने के कगार पर हैं। हमारी प्राकृतिक विरासतें नदियां, तालाब, कुएं, बावड़ियां, पहाड़, झरने उजड़ रहे हैं।

इसी कारण ऋतुचक्र में परिवर्तन, अतिवृष्टि, भूकंप जैसी आपदाओं का सामना करना पड़ रहा है। जैव विविधता के संरक्षण से ही मानव अपना अस्तित्व बचा सकता है।वही बच्चों को संबोधित करते हुए संस्था के अध्यक्ष नवल किशोर दास ने कहा कि आमजन को सरकार के भरोसे नहीं रहकर जैव विविधता में भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए।

प्रकृति से छेड़छाड़ प्राकृतिक संसाधनों के कम होने से ऐसी घटनाएँ बढ़ रही है। इस अवसर पर पूजा कुमारी सिंह, सत्यनारायण पंडित,साक्षी कुमारी,अंजली कुमारी,मुस्कान कुमारी,किट्टू कुमारी,मिथुन कुमार,अजय कुमार,प्रितम कुमार सहित सभी बच्चे उपस्थित थे।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments