बापू व शास्त्री के आदर्शों पर जीवन जीने का लिया संकल्प

बापू व शास्त्री के आदर्शों पर जीवन जीने का लिया संकल्प

ज्ञानपुर।

बुधावार को सुरियावां स्थित घनश्याम दुबे महाविद्यालय में भी गांधी जयंती व लालबहादुर शास्त्री की जयंती मनाई गयी। सर्वप्रथम इन दोनों महापुरुषों के चित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्ज्वलित किया गया।

उसके पश्चात महाविद्यालय के उपप्रबंधक ने गांधी जी व शास्त्री जी के व्यक्तित्व व देश के प्रति किये गये योगदान के बारें में विस्तार से वर्णन किया। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने देश की स्वतंत्रता में दिए योगदान को कोई नहीं भूल सकता।

बापू ने अंग्रेजों के खिलाफ अपनी सारी जिंदगी संघर्ष कर देश को आजादी दिलवाई और पूरी जिंदगी देश के लिए अर्पित कर दी। आज के दिन बापू शांति, अहिंसा और सच्चाई के रुप में याद किए जाते है। महाविद्यालय के प्राचार्य ने भी शास्त्री जी के योगदान पर प्रकाश डाला।

उसके बाद उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी जी के द्वारा दिए गए बलिदान हम लोगो के लिए अविस्मरणीय है। देश को आजादी दिलाने के अनोखे तरीके को भी याद किया जाता है। क्योंकि बापू ने हमेशा अहिंसा का रास्ता चुना और अहिंसा का रास्ता चुनने की सीख दी।

इस मौके पर महाविद्यालय के समस्त शिक्षक, छात्र-छात्राएं व कर्मचारी मौजूद रहे।

Comments