भीषण गर्मी में सिर्फ नाम के लिए खोले गए इक्का दुक्का प्याऊ,भटक रहे हैं राहगीर

भीषण गर्मी में सिर्फ नाम के लिए खोले गए इक्का दुक्का प्याऊ,भटक रहे हैं राहगीर

भीषण गर्मी में सिर्फ नाम के लिए खोले इक्का दुक्का प्याऊ ,भटक रहे हैं राहगीर
------------------------------------------------

ऐसे प्याऊ खोले गए हैं जिनमे प्यासे लोग भी पानी न पीयें।

पौशाला में साफ- सफाई कोसो दूर।


तिन्दवारी-बाँदा | गर्मी  के बढ़ते ही शहर के सार्वजनिक स्थानों, बाजारों और भीड़ वाले इलाकों में प्यासे लोग पानी की तलाश में भटकते नजर आ रहे हैंं। वहीं अभी तक नगर पंचायत ने मई के माह में सिर्फ नाम के लिए कस्बे में इक्का दुक्का प्याऊ खुलवा कर अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लिया है। नगर पंचायत पूर्व वर्षो में गर्मी के मौसम में कस्बे के जरूरत वाली जगहों पर अस्थायी सार्वजनिक प्याऊ खुलवाते रहे हैं।

इस साल मार्च ,अप्रैल व मई माह खत्म होने को है लेकिन अभी तक नगर पंचायत ने इक्का दुक्का प्याऊ खुलवाकर इतिश्री कर ली। वो भी जो प्याऊ खुले है उनमें कोई प्यासा भी पानी न पीयें।कस्बे  के बस स्टैंड व बाजार और भीड़ वाले अन्य सार्वजनिक स्थानों में प्याऊ की मांग की जा रही है।खोले गए प्याऊ में साफ-सफाई व प्याऊ दिखाई न  देने पर  या यूं कहें कि न नजर आने पर राहगीरों व लोगों को आसपास के होटलों में जाना पड़ रहा है।

होटल वालों ने मानवता दिखाई तो ठीक, वरना इन्हें प्यास बुझाने के नाम पर चाय-नाश्ते का अतिरिक्त खर्च वहन करना पड़ रहा है। वहीं कई लोग मजबूरी में पानी के पाउच और बॉटल खरीद कर प्यास बुझा रहे हैं। पहले यह काम पहले नगर पंचायत भीड़-भाड़ वाले इलाकों पर बकायदे पोस्टर बैनर लगाकर प्याऊ खोलवाती रही है, पर इस वर्ष उसने भी जिम्मेदारी से हाथ खींच लिया है।    गर्मी के दिनों में पानी की मांग बढ़ जाती हैं और दूर – दराज से कस्बे में आने वाले लोग पानी के लिए भटकने लगते हैं ।

क्योंकि गर्मी और तेज धूप से बचने के लिए लोगों को पानी और छाया अनिवार्य होती है । वही डॉक्टरों का मानना है कि गर्मी के दिनों में अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए और भूखे पेट धुप में निकलने से बचना चाहिए ।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments