फिर एसपी ने ऑनलाइन लूटी गई महिला की पैसे लौटाकर टूटी हौसले को किया बुलंद

 फिर एसपी ने ऑनलाइन लूटी गई महिला की पैसे लौटाकर टूटी हौसले को किया बुलंद

कुशीनगर,उप्र:-

 जनपद में तैनात तेजतर्रार छवि के पुलिस अधीक्षक को एक फरियादी इन्दू देवी पत्नी रामऔतार निवासी कसया नें प्रार्थना पत्र सौपते हुई आपबीती व्यथा को बताते हुए कही कि अपना सेण्ट्रल बैंक आफ इण्डिया के शाखा कसया थाना कसया के बचत बैंक खाते से किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा प्रधानमंत्री आवास हेतु आया पैसा One Time Password (OTP) पूछकर निकाल लिया गया। फरियादी द्वारा बताया गया कि उसके मोबाईल पर अज्ञात नम्बर से फोन आया था।

उसनें कहा कि मैं ब्रांच  मैनेजर बोल रहा हूँ। उसके द्वारा पीड़िता को फोन पर बताया गया कि  आपका एटीएम  बन्द होने वाला है, एटीएम  को चालू रखने के लिए उसका ‘वेरीफिकेशन’ अनिवार्य है जिस पर  पीड़िता द्वारा  विश्वास करके अपना एटीएम नम्बर,सीवीवी नम्बर  बता दिया गया। डिटेल बतानें के कुछ ही क्षण में पीड़िता के  मोबाईल पर मैसेज आया। जिसका नम्बर फोन पर कथित बैंक मैनेजर द्वारा पुनः पूछा गया। पीड़िता नें अज्ञानतावश मैसेज में आये नम्बर(OTP NUMBER) को बता दिया।

जिसके अगले ही क्षण पीड़िता के मोबाईल पर पुनः मैसेज आया। जिससे पीड़िता के अपनें खाते से पैसा कटने की सूचना प्राप्त हुयी। पुनः फोन पर कथित बैंक मैनेजर द्वारा विश्वास में लेकर बार-बार ओटीपी यह कहकर पूछा गया कि ओटीपी नम्बर के बताने के बाद पीड़िता के मोबाईल पर कटे पैसे वापस आ जायेंगे। कुछ समय इंतजार करने के बाद जब  पैसा खाते में  वापस नहीं आया तो पीड़िता घबराकर उस नम्बर पर बात करना चाही परन्तु उस नम्बर से बात नही हो पायी। पुलिस अधीक्षक द्वारा उक्त घटना पर तत्काल आवश्यक कार्यवाही करने हेतु साइबर सेल को आदेशित किया गया।

इसी क्रम में साइबर सेल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए जांच में पाया कि फरियादी श्रीमती इन्दू देवी के सेण्ट्रल बैंक आफ इण्डिया ब्रांच बरमा निवास कसया थाना कसया में खोले गये बचत खाते से ओटीपी पूछकर विभिन्न ‘आनलाईन कैश वैलेट’ जैसे- Mobikwik/Airtel Money/Ola Cabs/ Yes bank cash wallate/Razorpay/ICICI cash wallate/ABIPBL cash wallate के माध्यम से छोटे छोटे धनराशि में कुल 13 बार में कुल रू0 95718.00( रूपया पंचानबे हजार सात सौ अट्ठारह मात्र) की निकासी की गयी है।

साइबर सेल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए उक्त सभी ‘आनलाइन कैश वैलेट’ को ‘फ्रीज’ कराते हुए उपरोक्त विभिन्न वैलेट में मौजूद रू0 43999.00 (रूपया तिरालिस हजार नौ सौ निन्यानबे मात्र) को फरियादी के सेण्ट्रल बैंक आफ इण्डिया के बचत खाते में तत्काल वापस करा दिया गया।  शेष धनराशि फरियादी के खाते में वापस कराने हेतु प्रयास किया जा रहा है। 

 

एसपी ने साइबर सेल की आरक्षी को सराहा

 

इस कार्य को आरक्षी अनिल कुमार यादव साइबर सेल द्वारा सम्पादित किया गया।जिसके लिए पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र द्वारा उक्त आरक्षी की भूरि-भूरि प्रशंसा की गयी।

 

बैंक से ठगी होने की दशा में फौरन साइबर सेल को सूचित करें

 

पुलिस अधीक्षक महोदय के कुशल निर्देशन में कार्य कर रही साइबर पुलिस टीम ने बताया कि साइबर फ्राड होने की दशा में यदि फरियादी द्वारा साइबर ठगी होने के 24 घण्टे के अन्दर साइबर सेल को सूचना देता है तो फ्राड किये गये पैसौं की वापसी की संभावना अधिक रहती है। किसी भी अज्ञात व्यक्ति द्वारा बैंक सम्बन्धी कोई जानकारी जैसे- बैंक अकाउंट नम्बर, एटीएम नम्बर, सीवीवी नम्बर, आधार कार्ड  नम्बर आदि पूछे जाने पर कदापि न बतायें

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments