सुनवाई ना होने पर मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गई शिकायत

सुनवाई ना होने पर मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गई शिकायत

सुनवाई ना होने पर मुख्यमंत्री पोर्टल पर की गई शिकायत     

     कसगंजापीलीभीत:

कसगंजा निवासी राजाराम शर्मा ने जनसुनवाई पोर्टल एवं मुख्यमंत्री पोर्टल पर की शिकायत में बताया कि उनके  द्वारा दिनांक 31 10 2018  को थाना पूरनपुर में एनसीआर नंबर  373 / 218 अभियुक्त गण ओमकार पुत्र नंदलाल, नंदलाल पुत्र पूरन लाल के विरुद्ध दर्ज कराई गई थी

जो इस प्रकार है सेवा में श्रीमान कोतवाली प्रभारी निरीक्षक महोदय कोतवाली पूरनपुर पीलीभीत महोदय निवेदन है कि प्रार्थी आज अपने खेत पर गया था तो प्रार्थी के खेत पर ओमकार पुत्र नंदलाल नंदलाल पुत्र पूरन लाल निवासी ग्राम कबीरपुर कसगंजा तहसील पूरनपुर जिला पीलीभीत जो कि जबरन पानी निकाल रहे थे मैंने पानी निकालने से मना किया तो गाली गलौज करते हुए मारपीट पर आमादा फसाद हो गया और मेरे गुम चोट आई है

तथा मेरी रिपोर्ट लिख कर कानूनी कार्रवाई करने की कृपा करें दिनांक 31 10 2018  प्रार्थी राजा राम पुत्र भोले शर्मा निवासी ग्राम कबीरपुर कसगंजा पूरनपुर पीलीभीत मोबाइल नंबर 83 94086 822 उप निरीक्षक राजकुमार प्रमाणित करता हूं कि कल सूचना तहरीर मेरे द्वारा शब्द व शब्द टाइप कराई गई। प्रार्थी अशिक्षित है एवं ग्रामीण तबके का है उक्त घटना में पुलिस ने प्रार्थी द्वारा बताई गई सही घटना को अंकित नहीं किया और ना ही पुलिस के द्वारा प्रार्थी का मेडिकल कराया गया प्रार्थी ने अपना मेडिकल व्यक्तिगत स्तर रुहेलखंड मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल बरेली में कराया जिसमे रीढ़ की हड्डी टूटी पाई गई राजाराम आज तक बिस्तर पर पड़ा हुआ है प्रार्थी अत्यंत निर्धन होने के कारण अपना इलाज कराने में असमर्थ है

थाना पुलिस पूरनपुर द्वारा अभियुक्त को अनुचित लाभ प्रदान करने के उद्देश्य से धारा 323/ 504 एनसीआर दर्ज की और उचित धाराओं में कार्यवाही नहीं की गई जबकि प्रार्थी की रीढ़ की हड्डी टूटी हुई है। उक्त घटना के संदर्भ में ठीक है भाई राम नरेश की पत्नी मीना देवी द्वारा 21-12-2018 को एक प्रार्थना पत्र अंतर्गत धारा 155/२ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पीलीभीत के न्यायालय में आयोजित किया गया जिसमें आदेश दिनांक 25 1 2019 को पारित किया गया और थाना अध्यक्ष को आदेशित किया गया कि एनसीआर में विवेचना कराया जाना सुनिश्चित करें

किंतु थाना पुलिस द्वारा आदेश के लगभग 4 माह बीत जाने के उपरांत भी अभियुक्त के विरुद्ध कोई भी कार्यवाही नहीं की गई । प्रार्थी के छोटे भाई की पत्नी ने बताया कि उन्होंने घुंघचाई चौकी प्रभारी संजीव कुमार से संपर्क किए जाने पर कोई भी संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया और अभद्रता पूर्वक बात की गई । उन्होंने मांग की है कि उक्त घटना की विवेचना करा कर अभियुक्त के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई की जाए।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments