वह कौन से कारण है कि सोनियगांधीजी राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष पर फिर से आसीन करना चाहतीं है

वह कौन से कारण है कि सोनियगांधीजी राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष पर फिर से आसीन करना चाहतीं है

2019 के लोक सभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद भी राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष बनाने की तैयारी चल रही है। इसे देखकर सोनिया गांधीजी की विश्वंनयता पर शक होता है।


           अतीत में जिस प्रकार से देश की सत्ता कमजोर हाथो मनमोहन सिंहजी के हाथों सोपी गयी थी ।और इनके शाषण काल मे भ्रस्टाचार खूब फला फूला।जिसमे सभी की हिस्सेदारी होती थी।आज जब कांगेस  गर्त में जा चुकी है।सोनिया गांधी फिर से कांग्रेस की कमान राहुल गांधीजी के हाथों में देना चाहती है। चूकी राहुल गांधीजी का व्यक्तित्व भी मनमोहन सिंहजी की तरह सरल है।ताकि इनकी आढ़ में देश को अपने तरीके से चलाया जा सके।


        अगर सोनिया गांधीजी में देश और पार्टी के प्रति कोई संवेदना होती।तब पार्टी की कमान पंजाब के मुख्यमंत्री अर्मिन्दर सिंह जैसे नेता के हाथों में सौपी जा सकती थी।परन्तु मंशा तो कुछ और ही है।ऐसा भी प्रतीत होता है कि सोनिया गांधीजी के पीछे विदेशी ताकते काम कर रही है।जिससे राष्ट्र को कमजोर किया जा सके।इसके पीछे ऐसा भी प्रतीत होता है कि सोनिया गांधी में इस बात का आक्रोश भी है कि विदेशी मूल की महिला प्रधानमंत्री नही बन सकती है।शायद उनकी कुंठा भी दिखाई दे रही है।


       जहा तक कांग्रेस पार्टी के मजबूत या कमजोर होने का सवाल है।कांग्रेस की बुनियाद आज भी मजबूत है। परंतु शीर्ष नेतृत्व सही दिशा नही दे पा रहा है।जबकि विकल्प के रूप मे बीजेपी पूरी चुनोती दे रही है।जिसकी कमान नरेन्द्र मोदीजी नेता संभाल रहे है। परंतु आज भी कांग्रेस वंश वाद से ऊपर उठ नही पा रही है।जिसके परिणामस्वरूप कांग्रेस अपना अस्तित्व खोती जा रही है।किसी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए मजबूत सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों का ही होना जरूरी होता है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments