राम जन्मभूमि फैसले को लेकर सुबह से ही बढ़ी लोगों की धड़कने

राम जन्मभूमि फैसले को लेकर सुबह से ही बढ़ी लोगों की धड़कने




सड़को पर पसरा सन्नाटा, चोरी-चोरी बाते करते दिखे लोग
नगर की सड़को पर फोर्स के साथ फ्लैगमार्च करते रहे डीएम-एसपी


उन्नाव

अयोध्या के बहुप्रतीक्षित रामजन्म भूमि विवाद के फैसले को लेकर आज दिनभर लोगों की धड़कने तेज रहीं। सुबह से ही लोग टीवी के सामने बैठकर कई सदियो से चले आ रहे इस विवादित प्रकरण के अन्तिम निर्णय पर आंखे गड़ाये रहे। वहीं दूसरी ओर जिला प्रशासन किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए दिनभर पूरी तरह मुस्तैद रहा। स्वयं जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक भारी पुलिस फोर्स के साथ नगर की सड़को पर फ्लैगमार्च करते नजर आये। सड़को पर दोपहर तक सन्नाटा पसरा रहा। लोग चोरी-चोरी इस प्रकरण को लेकर बाते करते नजर आये। जिले के शराब ठेके भी पूरी तरह बन्द रहे। सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का सभी वर्गो ने तहेदिल से स्वागत किया। इस दौरान यह भी चर्चा रही कि सदियो से चले आ रहे एक बहुविवादित प्रकरण का आज फैसला हो गया। 


    अयोध्या में रामजन्म भूमि का विवाद कई सदियों से चला आ रहा था। एक माह पूर्व माननीय उच्चतम् न्यायालय द्वारा इस प्रकरण की 40 दिनो तक मैराथन सुनवाई के पश्चात फैसला सुरक्षित कर लिया गया था जिसे दीपावली के पश्चात सार्वजनिक किया जाना था। तबसे जिला प्रशासन इस विवादित प्रकरण के फैसले पर होने वाले एक्शन-रिएक्शन को लेकर पूरी तरह सक्रिय था। रोज गांव-गांव बैठके कर लोगों से शांति एवं सौहार्द बनाये रखने की अपील की जा रही थी। अधिकारी दिन-रात एक करके जिले की गंगा-जमुनी विरासत को कायम रखने की कोशिश कर रहे थे और आज अन्ततः वह घड़ी आ ही गयी जिसका सभी को बेसब्री से इन्तजार था। हालांकि फैसला सुबह 10.30 बजे आने वाला था लेकिन लोगों की नींद इस बहुप्रतीक्षित फैसले की चर्चाओं से ही खुली और जैसे-जैसे घड़ी आगे बढ़ रही थी, लोगों की धड़कने भी तेज होती जा रही थीं कि पता नहीं सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय क्या होगा?

टीवी पर पल-पल अपडेट होती खबरे लोगों को हटने ही नहीं दे रही थी और अन्ततः 10.30 बजे जैसे ही फैसला बढ़ा जाने लगा, लोग टकटकी लगाकर टीवी के सामने बैठ गये और अन्तिम समय तक एक-एक बिन्दु को बारीकी से सुना। जिसके बाद शुरू हुआ चर्चाओं का दौर लेकिन चूंकि जिला प्रशासन ने किसी भी तरह की खुशी या गम के इजहार पर पूरी तरह रोक लगा रखी थी, जिले के सभी शराब ठेको को पूरी तरह बन्द करवा दिया गया था लिहाजा लोग आपस में ही चोरी-चोरी इस फैसले पर खुशी व गम का इजहार करते नजर आये। सड़को पर दोपहर तक सन्नाटा पसरा रहा। दोपहर बाद माहौल कुछ नार्मल हुआ और लोग घरो से निकले। किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए जिलाधिकारी देवेन्द्र पाण्डेय, पुलिस अधीक्षक एमपी वर्मा, अपर पुलिस अधीक्षक विनोद पाण्डेय भारी पुलिसबल के साथ नगर की सड़को पर फ्लैगमार्च करते नजर आये तथा निर्णय के पश्चात सनडीसन स्कूल में वर्ग विशेष के लोगों के साथ बैठक कर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को सहर्ष स्वीकार कर प्रेम और सौहार्द बनाये रखने की अपील की। किसी भी क्षेत्र से फैसले के पक्ष या विपक्ष में किसी घटना की कोई खबर नहीं मिली है।  

Comments