जनपद में शांति व्यवस्था बनाये रखने हेतु धारा-144 लागू।

जनपद में शांति व्यवस्था बनाये रखने हेतु धारा-144 लागू।

कुशीनगर

कुशीनगर

जनपद की शांति व्यवस्था की स्थिति, जनमानस की कठिनाईयों के सम्बन्ध में तथा 19 मई को मतदान एवं 23 मई को चुनाव मतगणना सम्पन्न की जानी है,

जिसके दृष्टिगत पारस्परिक प्रतिस्पर्धा, मनमुटाव व प्रतिद्वन्दिता के परिप्रेक्ष्य में उन्मादी साम्प्रदायिक एवं असामाजिक तत्वों द्वारा विध्वंसक, विस्फोटक व विधि विरूद्ध समाजविरोधी क्रिया कलापों को कारित कर मानव जीवन को खतरा व लोक प्रशांति के भंग होने की पूर्ण एवं प्रबल संभावना रहती है। इस समय छोटी-छोटी घटनाएं भी कानून व्यवस्था को प्रभावित कर सकती है। 

जनपद की भीड़-भाड़ के माहौल में असामाजिक तत्वों/विघटनकारी तत्वों/शरारती तत्वों द्वारा अपनी कुत्सित उद्देश्यों की प्राप्ति हेतु कानून व्यवस्था को प्रभावित किया जा सकता है। उपर्युक्त परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए जनपद में शांति व्यवस्था बनाये रखने के उद्देश्य से तत्काल दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के अन्तर्गत निषेधाज्ञा जनहित में आदेश देना अनिवार्य हो गया है।

इसलिये बिना किसी को सुनवाई का अवसर दिये हुए अपर जिला मजिस्ट्रेट विंध्यवासिनी राय ने कुशीनगर जनपद की सीमा के अन्तर्गत शांति व्यवस्था बनाये रखने के उद्देश्य से एतद्द्वारा  दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के अन्तर्गत प्रदत्त अधिकारों का प्रयोग करते हुए एकपक्षी आदेश तत्कालिक प्रभाव से 24 जुलाई  तक प्रभावी रहेगा।

अपर जिला मजिस्ट्रेट ने समस्त सम्बन्धित अधिकारीगण को निर्देशित किया है कि धारा-144 दण्ड प्रक्रिया संहिता का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करेंगे। इस आदेश का उल्लंघन भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध माना जायेगा। 
 


 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments