सुहागिनों  ने करवा चौथ के व्रत अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए रखा

सुहागिनों  ने करवा चौथ के व्रत अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए रखा

नरेश गुप्ता/ राजेश मिश्रा की रिपोर्ट

सुहागिनों  ने करवा चौथ के व्रत अपने पतियों की लंबी उम्र के लिए रखा

मोहनलालगंज लखनऊ 

करवा चौथ पर पतियों की लंबी उम्र के लिए सुहागिनों ने रखा14 घंटे उपवास पति पत्नी के प्रेम का प्रतीक करवा चौथ का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। महिलाएं इस बार 70 वर्ष बाद रोहिणी नक्षत्र के शुभ संयोग में पति के दीर्घायु की कामना की। पति की लंबी उम्र की कामना के साथ महिलाएं पूरा दिन निर्जला व्रत रखने के बाद शाम को चंद्रमा निकलने पर पूजा करने के बाद अन्न वा जल ग्रहण किया। इसमें छलनी से चांद देखने का विधान है।

इस साल की व्रत की समय अवधि लगभग 14 घंटे की रही। करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का पर्व मनाया जाता है। चतुर्थी तिथि जिस दिन रात्रि में चंद्रमा उदय होने तक रहे, उस दिन करवा चौथ का व्रत होता है। इस दिन सुहागिन स्त्रियां प्रातः काल से ही निर्जला व्रत रखकर संध्या के समय चंद्रमा को अर्घ्य देकर और अपने पति के दर्शन कर जल ग्रहण करके व्रत का परायण करती हैं ।करवा चौथ के मौके पर महिलाएं, युवतियां हाथों में मेहंदी लगाती हैं ।चतुर्थी को दिनभर व्रत करने के बाद शाम को सोलह श्रृंगार से सज धज कर  चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं। और भगवान गणेश की पूजा करती हैं।

 

Comments