स्थानीय पार्षद तथा विकास नगर पुलिस की गंभीर लापरवाही की कीमत बच्चे ने जान देकर चुकाई

#लखनऊ विकास नगर थाने की लापरवाही से अलीगंज में एक ढाई साल की बच्ची की दर्दनाक मौत...... जहाँ एक तरफ एसएसपी कलानिधि नैथानी रात-दिन मेहनत कर पुलिस की छवि को सुधारनें की कोशिस कर रहे है

वही दूसरी तरफ विकास नगर थाना पुलिस की छवि खराब करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। ताजा मामला राजधानी लखनऊ में अलीगंज के सेक्टर एम में जमील कोटेदार के सामनें का है जहाँ आज एक कार जिसका नंबर UP 32 JW 2337 ने ढाई साल की मासूम बच्ची जिसका नाम अनन्द्या पिता का नाम लोकेश है, को रौंद दिया जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। आसपास वालों का कहना है कि कार ड्राइवर खराब तरीके से गाड़ी चलाने के लिए जाना जाता था

वह हमेशा तेज़ रफ्तार से गाड़ी गली में चलाता था जिसकी सूचना विकास नगर थाने में कई लोग दिए भी कि इस मोहल्ले की गलियों में कई लोग तेज गाड़ियां चलाते हैं जिससे कभी भी कोई बच्चा या कोई बुजुर्ग गाड़ियों की चपेट में आ सकता है, इसके बावजूद विकास नगर थाना इस पर कोई एक्शन नहीं लिया और उसका खामियाजा यह हुआ कि आज ढाई साल की एक बच्ची को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा।

देखने वाली बात है कि विकास नगर थाना इस पर कोई ठोस कार्यवाही करेगा या पूर्व की भांति बेपरवाह रहेगा । स्वतंत्र प्रभात के रिपोर्टर जब थाने पर पहुंचे वहां के पुलिस सीधे डीजीपी के आदेशों का उल्लंघन करते दिखे ना वह हमारे पत्रकार से सीधे मुंह बात किए और ना ही इस खबर के बारे में कुछ बताएं। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जैसे कुछ हुआ नहीं शायद उनको नहीं मालूम कि अगर गली में तेज गति से बाईक या कार चलानें वालें गैंग पर समय रहते कोई ठोस कार्यवाही किए होते तो आज एक बच्ची को अपनी जान देकर उसकी कीमत ना चुकानी पड़ती। बच्ची की बाडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है । खबर लिखे जाने तक पोस्टमार्टम की रिपोर्ट नही आयी थी।

और बच्ची के घर वालो का कहना है कि विकास नगर थाने की पुलिस ने 20 हजार रुपए लेकर मामले को सुलह कराने की बात कर रही है! वहीं आस पास वालों का आरोप है कि सेक्टर एम में पुलिस की रजामंदी से जुआ खेला जाता है, और नशेड़ियों का अड्डा भी बनता जा रहा है यही लोग नशें में तेज गति से गाड़िया भी चलातें है, इस बात की कई बार विकास नगर थाने में शिकायत की गई है लेकिन थाने की पुलिस इस पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की है। जिससे आज एक मासूम बच्ची की जान चली गई।पब्लिक के बीच विकास नगर थानें की छवि लगातार खराब होती जा रही है लोग तरह तरह के आरोप विकास नगर थानें पर लगा रहे है।

इस समय नौरात्र का पावन पर्व चल रहा है जिसमें बच्चियों को दुर्गा का रूप मान कर पूजा करते है ऐसे पवित्र समय के अवसर पर विकास नगर के थाने की लापरवाही की कीमत एक दुर्गा को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। पिछले कई सालों से लगातार स्थानीय पार्षद तथा थाने पर कभी 100 नंबर से कभी टि्वटर से हर तरह से शिकायत की गई कि यहां पर लगातार जुए का कारोबार चल रहा है और 10-12 लड़के लगातार जुआ खेलते हैं नशे बाजी करते हैं और हाई स्पीड में बाइक लगातार चलाते रहते हैं जिसकी वजह से आए दिन कोई न कोई हादसा होता भी रहता है

अब एक बड़ा हादसा हो गया लगातार सड़कों पर पार्षद से मांग की गई कि ब्रेकर बनवाया जाए जिससे दुर्घटना होने की संभावना कम हो जाए लेकिन उस पर भी किसी भी तरीके से ध्यान नहीं दिया गया मुझे उम्मीद है कि इस दुर्घटना के बाद कम से कम पार्षद और स्थानीय विकास नगर पुलिस इस बात को संज्ञान में लेकर गंभीरता से आगे किसी भी शिकायत को सुनेगी

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments