उप जिलाधिकारी महमूदाबाद ने मेले का किया उद्घाटन

उप जिलाधिकारी महमूदाबाद ने मेले का किया उद्घाटन

नरेश कुमार गुप्ता

उप जिलाधिकारी महमूदाबाद ने मेले का किया उद्घाटन

धीरज नाग की रिपोर्ट महमूदाबाद

सीतापुर यूपी 

जनपद सीतापुर के महमूदाबाद  में संकट हरनी माता माँ संकटा देवी मंदिर में चैत्र नवरात्री पर मेला का उद्धघाटन उपजिलाधिकारी महमूदाबाद अमित भट्ट के द्वारा पूजन अर्चन कर फीता काटकर माँ संकटा देवी के दर्शन कर सरस्वती माँ के चित्रण पर दीप प्रज्वलित कर माल्यार्पण कर कार्यक्रम की सुरुवात की गई ।

इसके पश्चात बच्चों द्वारा भाव नृत्य कर लोगों का मन मोहित किया । 

मंदिर का इतिहास .

लाखों भक्तों की मनोकामनायें पूर्ण करती है मां संकटा देवी संकटों  का नाष करने वाली देवी माॅं भगवती का नाम संकटा मइया कैसे पड़ा ? यह किसी को पता नहीं है। जानकारों का मानना है कि स्थानीय श्री संकटा देवी मंदिर की स्थापना भर्र राजपूतों द्वारा करायी गयी।

कहा जाता है कि भर्र राजपूतों ने कुल देवी पाटन (पाटेष्वरी) के अंष को लाकर स्थापना की थी। राजपूत किसी भी संकट के समय देवी की विधान पूर्वक पूजन किया करते थे। मान्यता है कि देवी माॅं से मानी गयी मनौती अवष्य पूर्ण होती है। माॅं के दरबार पर दूर दराज जनपदों के साथ क्षेत्र के लाखों लोगों की पूर्ण आस्था है।

        संकटा देवी मंदिर की स्थापना भर्र राजपूतों ने की थी। महमूदाबाद में अपने शासन काल के दौरान भर्र राजपूतों ने संकटकाल के दौरान अपनी कुलदेवी मां पाटेश्वरी देवी के अंश की यहां स्थापना करके पूजन-अर्चन प्रारम्भ किया था।

       संकटा देवी मंदिर में प्रत्येक सोमवार एवं शुक्रवार, पूर्णमासी, शारदीय नवरात्र, विजयादशमी, बासंतिक नवरात्रि, शिवरात्रि, रामनवमी के अवसर पर बड़ा मेला लगता है। भारतीय नव संवत्सर के साथ शुरू होने वाले वार्षिक मेले में कई जिलों के दुकानदार अपनी दुकानें लगाते हैं बड़ी संख्या में यहां लोग सत्य नारायण की कथा सुनते हैं हजारों की संख्या में बच्चों के मुंडन संस्कार सम्पन्न होते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, कवि सम्मेलन का लोग आनन्द लेते हैं। 

      सीतापुर के आस-पास के जनपदों सहित पूर्वांचल के कई जिलों के लाखों लोग यहां मां के दर्शन करने प्रति वर्ष आते है। मां संकटा देवी इनकी मनोकामनायें पूर्ण करती है।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments