प्याज की कालाबाजारी से जनता त्रस्त प्रयागराज में व्यापारी मस्त

प्याज की कालाबाजारी से जनता त्रस्त प्रयागराज में व्यापारी मस्त

‌  जनपद में प्याज की
‌  मुनाफाखोरी से जनता परेशान

‌कालाबाजारी रोकने हेतु टीमों का किया गया गठन

‌ भण्डारण सीमा से अधिक प्याज रखने वालो पर  प्रभावी कार्यवाही किये जाने के निर्देश

‌स्वतंत्र प्रभात।

‌प्रयागराज। उत्तर प्रदेश सरकार लाख ढिंढोरा पीटे कि प्याज का दाम कम करने के लिए हमने प्रवर्तन की टीम गठित कर दिया है और प्याज व्यापारियों के यहां एक सीमा से अधिक भंडारण करने पर छापा मारकर उन्हें दंडित करने और लंबा जुर्माना करने का आदेश की घोषणा कर दी है लेकिन हकीकत जमीन पर कुछ और दिखाई दे रही है ।

न ही प्याज का दाम अभी तक घट पाया न ही किसी व्यापारी के यहां प्रयागराज में अभी तक छापा पड़ा जिलाधिकारी और आयुक्त इस संबंध में कई बार मीटिंग करके चेतावनी दिए और संबंधित उपजिलाधिकारी वहां के निरीक्षक  को कार्रवाई करने का निर्देश दिए लेकिन कोई भी एसडीएम अभी तक न तो किसी मंडी समिति में छापा मारा नाही किसी व्यापारी के यहां। जिससे पूरे जनपद में ग्रामीण क्षेत्रों में अभी भी 60 किलो प्याज खुलेआम बाजार में दुकानदारों द्वारा भेजी जा रही है

इस संबंध में उपभोक्ता व्यापारियों से सरकार की घोषणा की बात करता है ₹40 किलो प्याज का दाम निर्धारित कर दिया गया है तो कहता है कि हमें जब ₹40 में मिला ही नहीं बेचेंगे कहां से इसका आशय यह हुआ प्रशासन के घोषणा का कोई असर व्यापारियों पर अभी तक नहीं पड़ा।
‌ फूलपुर में सर्वाधिक मनमानी मंडी समिति में और खुदरा व्यापारी बाजारों में कर रहे हैं और खुलेआम साप्ताहिक बाजारों में ₹60 किलो प्याज बेचते हुए दिखाई पड़ रहे है। उपभोक्ताओं का कहना है किसका कहा माना जाए  ।

प्रशासन की घोषणा कर देने से
‌ हकीकत नहीं होती है प्रयागराज जनपद में कोई भी उपजिलाधिकारी कोई प्रभावी कार्यवाही अभी तक कहीं करता हुआ  दिखाई दे रहा है ।
‌फूलपुर में मंडी समिति है जिलाधिकारी मंडी समिति के सामने से  प्रतिदिन फूलपुर कार्यालय जाते हैं लेकिन न तो उनका सप्लाई विभाग खाद्य विभाग या स्वयं आज तक मंडी समिति में प्याज के बारे में पूछने  गए और ना समस्या को सुलझा पाए जिससे पूरे क्षेत्र में व्यापक और रोष दिखाई पड़ रहा है हालत यह हो गई है लोग प्याज खाना बंद कर दे रहे हैं ।

जिलाधिकारी प्रयागराज ने बताया है कि भारत सरकार के अधिसूचना के  द्वारा प्याज के व्यापारियों पर भण्डारण सीमा थोक विक्रेता के लिये 50 मी0 टन और फुटकर विक्रेता के लिए 10 मी0टन दिनांक 30 नवम्बर, 2019 तक के लिए निर्धारित करते हुए लागू की गई है। जिसके क्रम में आयुक्त, खाद्य एवं रसद विभाग के द्वारा प्याज की बढ़ती कीमतों के दृष्टिगत उपरोक्त भण्डारण सीमा प्रभावी रूप से लागू किये जाने हेतु जनपद में टीम गठित कराकर प्याज के व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर प्रर्वतन की प्रभावी कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये गये हैं

ताकि प्याज की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लग सके एवं व्यापारियों की जमाखोरी एवं मुनाफाखोरी की प्रवृत्ति पर रोक लगायी जा सके। निर्देशों का पालन सुनिश्चित कराये जाने हेतु जनपद में प्याज की कीमतों पर अंकुश लगाये जाने तथा व्यापारियों की जमाखोरी तथा मुनाफाखोरी को रोकने हेतु प्याज के व्यापारिक प्रतिष्ठानों की जांच/प्रर्वतन की प्रभावी कार्यवाही हेतु टीमों का गठन किया गया है, जिसमें नगर क्षेत्र प्रयागराज के लिए अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम, पूर्ति निरीक्षक तहसील-सदर, मण्डी सचिव, मण्डी परिषद मुण्डेरा। अपर नगर मजिस्ट्रेट द्वितीय, पूर्ति निरीक्षक प्रखण्ड-02, विपणन निरीक्षक सदर।

अपर नगर मजिस्ट्रेट तृतीय, पूर्ति निरीक्षक प्रखण्ड-04, विपणन निरीक्षक अलोपी बाग के नेतृत्व में 03 जांच टीम का गठन किया गया हैं, जो नगर क्षेत्र में प्याज की जमाखोरी करने वालों की जांच करेंगी। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्र में तहसील मेजा के लिए उपजिलाधिकारी तहसील मेजा, विपणन निरीक्षक मेजा, पूर्ति निरीक्षक मेजा, सम्बन्धित मण्डी सचिव की टीम को गठित किया गया है।

इसी प्रकार तहसील कोरांव, करछना, फूलपुर एवं सोरांव के लिए अलग-अलग कुल 7 टीमों का गठन किया गया है जो पूरे ग्रामीण क्षेत्र में प्याज की जमा खोरी करने वाले व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर जांच/प्रवर्तन की कार्यवाही करना सुनिश्चित करेंगे।

‌प्रयागराज से दया शंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट।

Comments