क्रिकेटर शमी की पत्नी हसीन ने  पुलिस के खिलाफ  लगाए गंभीर आरोप

क्रिकेटर शमी की पत्नी हसीन ने  पुलिस के खिलाफ  लगाए गंभीर आरोप
  • हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब माँगा 

‌स्वतंत्र प्रभात प्रयागराज।

क्रिकेटर मोहम्मद शमी और उनकी पत्नी हसीन जहां के बीच मार्च 2018 से विवाद चल रहा है। हसीन जहां ने शमी के परिवार के चार सदस्यों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। मामला कोर्ट में चल रहा है।अब हसीन जहां ने अमरोहा पुलिस को घेरा है। हसीन जहां ने हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दाखिल कर अमरोहा के दिदौली थाने की पुलिस और ससुराल के लोगों पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

हसीन जहां ने पुलिसकर्मियों के खिलाफ अवमानना याचिका दाखिल कर कहा है कि पुलिस ने उनको अवैध तरीके से हिरासत मेें लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना की है। हाईकोर्ट ने याचिका पर राज्य सरकार के अपर मुख्य स्थायी अधिवक्ता संजय सिंह से जानकारी मांगी है। कोर्ट ने अपर मुख्य स्थायी अधिवक्ता संजय सिंह से 18 जुलाई तक याची के आरोपों की बाबत जानकारी देने को कहा है। याचिका पर जस्टिस एमसी त्रिपाठी ने सुनवाई की।

याची हसीन जहां का कहना है कि 28 अप्रैल 2019 को वह अपनी बेटी व नौकरानी के साथ अमरोहा गई थी। वहां रात 8.30 बजे एसएचओ देवेंद्र कुमार अन्य पुलिस कर्मियों के साथ उसके घर पर आए और कुछ बातें करके चले गए। इसके बाद रात 12 बजे पुलिस दोबारा उनके घर आकर गाली-गलौज करने लगी। फिर बेटी व नौकरानी के साथ उन्हें जबरन थाना ले आया गया।

 पुलिस ने याची को रातभर थाना में बैठाए रखा और उनका चिकित्सकीय परीक्षण कराया। इसके बाद दूसरे दिन 29 अप्रैल को उनका चालान काटकर गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने यह सब शमी के कहने पर किया था। यही नहीं, याची को अपने वकील से संपर्क भी नहीं करने दिया गया। याची ने पुलिस कार्यवाही को डीके बसु केस में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लंघन बताया है। याचिका में एसएचओ देवेंद्र कुमार के अलावा अन्य पुलिसकर्मियों केपी सिंह, मुनीरजन जैदी, अमरीश कुमार, संजीव बालियान को पक्षकार बनाया गया है।

 हसीन ने पुलिस कार्यवाही को डी.के. वसु केस के फैसले का उल्लंघन बताया। उन्होंने कहा कि मुझे वकील से सम्पर्क नहीं करने दिया गया। याचिका में देवेंद्र कुमार एसएचओ के साथ पुलिस उपनिरीक्षक के पी सिंह, मुनीर जन जैदी, अमरीश कुमार और संजीव बालियान को पक्षकार बनाया गया है।

गौरतलब है कि 28  अप्रैल को क्रिकेटर मुहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने एक बार फिर अमरोहा में हाई वोल्टेज ड्रामा किया था ।अपने पति मोहम्मद शमी पर घरेलू हिंसा का आरोप लगाकर पिछले साल सुर्खियों में आने वाली हसीन जहां रविवार की रात अचानक अपने ससुराल पहुंची थी।

देर रात पुलिस ने उन्हें एक अस्पताल में नजरबंद रखा। इसके बाद सोमवार 28  अप्रैल को रात भर उनकी हरकतों से परेशान पुलिस ने शांति भंग की आशंका में हसीन जहां के साथ ही दो अन्य का भी चालान कर हसीन जहां को गिरफ्तार कर लिया था । हसीन जहां को गिरफ्तार करने के बाद एसडीएम कोर्ट में पेश किया गया,जहां से दोनों को निजी मुचलके पर जमानत दे दी गई।एसडीएम कोर्ट में हसीन जमानत नहीं कराने की जिद पर अड़ी रही। बाद में वकीलों के समझाने पर हसीन ने जमानत करा ली। 

 हसीन के कदम से घर पर मौजूद सास और देवर से नोकझोंक शुरू हो गई थी। हसीन के घर में दाखिल होने पर शमी की मां ने उसके खिलाफ तहरीर दी। मां का आरोप था कि हसीन जबरदस्ती घर में घुस गई है और उन्हें बाहर किया जाए। 

हसीन जहां ने पुलिस हिरासत में मीडिया से बात करते हुए आरोप लगाया था कि मोहम्मद शमी की ऊंची पहुंच और पैसे की वजह से उत्तर प्रदेश पुलिस उसे परेशान कर रही है। इस दौरान हसीन जहां ने मीडिया से मदद की गुहार भी लगाई। उन्होंने पूछा क्यों योगी आदित्यनाथ सरकार नहीं देख रही? क्यों मोदी सरकार नहीं देख रही है? बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और मैं भी एक बेटी हूं।

किस तरह से मेरे साथ बर्ताव किया जा रहा है। रात के 12;00 बजे मुझे मेरे बिस्तर से खींच कर धक्के मार कर लाया गया । मेरे हाथ से फोन छीन लिया गया। मुझे खरोंच भी आई है। अब आप बताइए कि मैं किसके पास जाऊं सपोर्ट मांगने के लिए। वह अपना पैसा पावर सब कुछ काम में लगा रहा है, पर मैं जो अपने हक की लड़ाई लड़ रही हूं तो पुलिस मुझे इस तरह से प्रताडि़त कर रही है।

प्रयागराज से दयाशंकर त्रिपाठी की रिपोर्ट।

 

 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments