स्वतंत्र प्रभात का राजधानी लखनऊ संस्करण का हुआ विमोचन

स्वतंत्र प्रभात का राजधानी लखनऊ संस्करण का हुआ विमोचन

 

आम जनता की डिमांड पर समर्पित किया गया राष्ट्रीय हिंदी दैनिक

राजधानी लखनऊ

 पत्रकारिता जगत में अपनी ईमानदारी सच्ची खबरों अपराध और जनसमस्याओं को प्रकाशित करने के लिए जाना जाने वाला भारत का एकमात्र बढ़ता अखबार स्वतंत्र प्रभात जिसका नया संस्करण 11 अक्टूबर 2019 को अपने सूबे की राजधानी लखनऊ में आम जनता की डिमांड को देखते हुए नए संस्करण जनता को समर्पित किया गया. विगत 11 वर्षों से अपने कदम आगे बढ़ाने को बेकरार अखबार स्वतंत्र प्रभात का लखनऊ संस्करण बड़े ही हर्षोल्लास के साथ अपने उत्तर प्रदेश के समस्त जिला ब्यूरो रिपोर्टर और गणमान्य अतिथियों के बीच में लॉन्च हुआ.

आम जनता की डिमांड पर समर्पित किया गया राष्ट्रीय हिंदी दैनिक

पिछले 3 वर्षों से लगातार  अलग-अलग जिलों और  तहसीलों से  नए संस्करण की डिमांड बढ़ती जा रही थी जिसकी वजह से स्वतंत्र प्रभात मीडिया प्राइवेट लिमिटेड ने  अपने नए संस्करण को जनता के बीच समर्पित किया. स्वतंत्र प्रभात उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले तहसील और ब्लॉक की खबरों को प्रकाशित पिछले कई वर्षों से करता आ रहा है जिसकी वजह से ईमेल पत्राचार के माध्यम से रोजाना नए संस्करण की डिमांड बढ़ती जा रही थी जिसको देखते हुए अखबार के  संपादक रवि अवस्थी, संपादक राजीव शुक्ला और प्रशांत तिवारी ने उत्तर प्रदेश को एक नया संस्करण देने का निर्णय लिया और वह घड़ी आज आई जिसमें राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह लखनऊ की धरती से अखबार का बड़ा ही जोरदार उद्घाटन और विमोचन हुआ.

 पत्रकारिता जगत में अपनी ईमानदारी सच्ची खबरों अपराध

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सतर्कता विभाग के एसपी अखिलेश निगम रिटायर्ड, एसपी एमपी सिंह रिटायर्ड एडीजी सरोज साहब वरिष्ठ बुजुर्ग समाज सेविका राजेश्वरी देवी ( वीरांगना ऊदा देवी पासी की ऊदा देवी पासी की परपोती) और ओम प्रकाश पाठक सचिव उत्तर प्रदेश सरकार जस्टिस वी के दीक्षित तथा मानवाधिकार से विकास सक्सेना के कर कमलों से माता सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर तमाम गणमान्य व्यक्तियों के समक्ष अखबार के नए संस्करण को समाज के लिए समर्पित किया गया

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सतर्कता विभाग के एसपी अखिलेश निगम

जिससे नई ऊंचाइयों को छूते हुए दिन दूना रात चौगुना तरक्की करते हुए समाज के अपराध समस्या सच्चाईयों को समाज के बीच प्रस्तुत अखबार करता रहे. इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार प्रयागराज दया शंकर त्रिपाठी अमेठी से आशीष त्रिपाठी सीतापुर से नरेश गुप्ता हरदोई से अरविंद गुप्ता भदोही से उमेश सिंह बाराबंकी से प्रवीण तिवारी लखनऊ से विपिन शुक्ला कुशीनगर से प्रमोद रौनियार ललितपुर से पत्रकार अंतिम जैन लखीमपुर खीरी से निर्जेश मिश्रा रायबरेली से राजेश कुमार सुल्तानपुर से मनोज पांडे बिहार से अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार विजेता ललित  किशोर कुमार और तमाम स्वतंत्र प्रभात परिवार के ब्यूरो और रिपोर्टर मौजूद रहे l

सतर्कता विभाग के एसपी अखिलेश निगम

इस कार्यक्रम के दौरान डॉ अखिलेश निगम अखिल के गिरगिट कहानी का 2015 लोकभारती प्रकाशन इलाहाबाद से प्रकाशित पुस्तक का कन्नड़ भाषा में अनुवाद डॉक्टर जी एस सरोज ने उस अरवली शीर्षक से किया इस पुस्तक का लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान ही हुआ

Comments