थाना परिसर परसपुर में हुआ पुलिस झंडा दिवस का आयोजन

थाना परिसर परसपुर में हुआ पुलिस झंडा दिवस का आयोजन

               रिपोर्टर - जय दीप सिंह 

परसपुर,गोण्डा-

थाना परिसर में शनिवार को पुलिस झंडा दिवस के अवसर पर ध्वजारोहण व पुलिस झंडे को सलामी दी गई। पुलिस वर्दी पर झंडे का स्टीकर लगाया गया।

 इस दौरान उपनिरीक्षक सुरेश मणि मिश्रा ने पुलिस कर्मियों को झंडा दिवस व उसके महत्व के बारे में बताते हुए कहा कि झंडे का सम्मान करना हम सबकी ज़िम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि 23 नवंबर 1952 को तत्कालीन प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के द्वारा उत्तर प्रदेश पुलिस को ये ध्वज प्रदान किया गया था इस लिए प्रतिवर्ष 23 नवंबर को इस दिन को पुलिस झंडा दिवस के रूप में मनाया जाता है

आज का दिन उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए ऐतिहासिक है। यह ध्वज पुलिस के गौरवशाली अतीत का जीवंत प्रतीक है। पुलिस ध्वज से पुलिस कर्मियों में नई ऊर्जा का संचार होता है। उन्होंने कहा कि हमें गर्व के साथ धैर्य पूर्वक न्यायपूर्ण कार्य करते हुए पुलिस विभाग की छवि को अच्छा बनाना है। पीड़ितों को न्याय, सबको सुरक्षा और सम्मान दिलाने के साथ पुलिस ध्वज की गरिमा को बढ़ाना है। 

उन्होंने बताया कि 23 नवंबर को हर साल सैनिक कल्याण के लिए झंडे के स्टीकर जारी किए जाते हैं। इस अवसर पर सुरेश मणि मिश्रा, उदय भान मिश्रा, भोलाशंकर, अरविंद सिंह, वीरेन्द्र पाल, संजय यादव, सपना समेत अन्य आरक्षी शामिल रहे। बताया जाता है कि यूपी पुलिस के इतिहास में 23 नवम्बर का विशेष महत्व है। इस दिन को 'पुलिस झंडा दिवस' के रूप में मनाया जाता है। 23 नवम्बर 1952 के बाद प्रति वर्ष सैनिक कल्याण के लिए झंडे के स्टीकर जारी किए जाते हैं।

पुलिस झंडा दिवस यानि प्रति वर्ष 23 नवंबर को पुलिस मुख्यालयों व कार्यालयों, पीएसी वाहिनियों, क्वार्टर गार्द, थानों, भवनों व कैम्पों पर पुलिस ध्वज फहराए जाते हैं। पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा पुलिस ध्वज का प्रतीक (स्टीकर) वर्दी की बांई जेब के ऊपर लगाया जाता है। यह सिलसिला 23 नवंबर 1952 से अनवरत चलता आ रहा है।

Comments