बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बना रही है डायरेक्टर /प्रोड्यूसर कीर्तिका चौहान

 

कास्टिंग डायरेक्टर, लाइन प्रोड्यूसर, प्रोड्यूसर कृतिका चौहान से बातचीत के अंश

प्रश्न- भारत या उत्तर प्रदेश लेवल की उपलब्धि बताएं


उत्तर -फिल्मो में बतौर क्राउड कॉर्डिनेटर शुरुवात की फिर उसके बाद मेरी पहली बॉलीवुड फिल्म बतौर कास्टिंग डायरेक्टर आई। उसके बाद मैंने कई फिल्मो,विज्ञापनो, शार्ट फिल्मो,व् म्यूजिक एलबम्स में बतौर कास्टिंग डारेक्टर व् लाइन प्रोड्यूसर के रूप काम किया है ।

मेरी कई फिल्में राष्ट्रीय व् अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में सराही गयी व् प्रदेश सरकार के द्वारा भी सम्मनित की गयी और खाश बात ये है कि बिना मुम्बई शहर गए ही मैंने उत्तर प्रदेश में ये सफर तय किया है तथा अपने शहर लखनऊ और उत्तर प्रदेश का नाम रौशन किया है  और अब बतौर प्रोड्यूसर भी उत्तर प्रदेश में काम कर रही हूं ।

प्रश्न-लखनऊ के लिए गर्व की बात क्या है


उत्तर- सबसे पहले मैं आपको बता दू की मेरे लिए गर्व की बात है कि मैं अदब के शहर लखनऊ से हूं।लखनऊ के गर्व की बात ये है कि लखनऊ में शूट हो रही फिल्मे आज राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त कर रही है और इन्ही सब कारणों से आज मायानगरी खुद लखनऊ की तरफ रूख़ कर रही है।

प्रश्न-अपनी फिल्मोग्राफी,करियर के बारेे में


उत्तर- मैंने अपने फिल्मी करियर की शुरुवात बतौर क्राउड कोऑर्डिनेटर के रूप में की थी इसके बाद मैंने अपनी पहली हिंदी फीचर फिल्म "आई ऍम नॉट देवदास" बतौर कास्टिंग डायरेक्टर की जिसको उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा सब्सिडी भी प्राप्त हुई । उसके बाद मैंने कई फिल्मो,विज्ञापनो, शार्ट फिल्मो,व् म्यूजिक एलबम्स में बतौर कास्टिंग डारेक्टर व् लाइन प्रोड्यूसर के रूप काम किया है ।

इसके बाद मैंने बतौर लाइन प्रोड्यूसर शार्ट फिल्म "छोटी सी गुज़ारिश" की जिसको राष्ट्रीय व् अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अवार्ड मिले और 'कांस फिल्म फेस्टिवल' में स्पेशल कार्नर मिला ।सामाजिक मुद्दों पे बनी हिंदी फ़ीचर फिल्म-वन टू फोर (लखनऊ वाली निम्मो)में बतौर एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर कास्टिंग डायरेक्टर, लकीरें 'द अनटोल्ड स्टोरी' में बतौर लाइन प्रोड्यूसर व् कास्टिंग डायरेक्टर के रूप में काम किया।


एक नयी पारी की शुरुवात करते हुए मैंने सामाजिक मुद्दों में आवाज उठाती शार्ट फिल्म "विवश" को प्रोड्यूस किया है जोकि इनदिनों बहुत ही चर्चा में है।'फेम आर्गेनाइज़र' के बैनर तले बनी शॉर्ट फिल्म 'विवश' पशु क्रूरता पर आधारित एक मानवीय सरोकार की सामाजिक फ़िल्म है ।


लखनऊ और इसके आस-पास के स्थानों पर चित्रित ये फिल्म 12वें अयोध्या फ़िल्म फेस्टिवल द्वारा  पुरस्कृत है। फ़िल्म समाज में पशुओं पर होने वाले अत्याचार, क्रूरता तथा उन से किये जाने वाले दुर्व्यवहार को दर्शाती है।


प्रश्न- मुम्बई में किस बड़ी हस्ती या कम्पनी के साथ काम किया

उत्तर- कास्टिंग डायरेक्टर व् लाइन प्रोड्यूसर के तौर पे मैंने कई बॉलीवुड कलाकारों के साथ काम किया है जैसे आशुतोष राणा,अमन वर्मा,शर्लिन चोपड़ा, वृजेंद्र काला, शिशिर शर्मा,अनिल रस्तोगी,रमेश गोयल, इश्मिता जायकार,मुकेश भट्ट,लिटिट दुबे, वृजेश हिरजी, विजय राज, यशपाल शर्मा,किश्वर मरचेंट, शहर्ष शुक्ला, राजेश जैश व् अन्य जिनसे मै लखनऊ में रहते हुए ही संपर्क में रहती हूं ।


प्रश्न-आपकी कहानी और सफलता के बारे में जानकर समाज को क्या सन्देश जायेगा?


उत्तर- सबसे पहले तो अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को देना चाहूंगी जिनके मार्गदर्शन और साथ के बिना एक लड़की का इस मुकाम में जाना संभव न था । आज उन्ही के भरोसे को हकीकत में बदलने की एक छोटी सी कोशिश मैंने की है। समाज के लिए यही सबसे बड़ा सन्देश है की लड़कियों को घर के कामो तक सीमित न रखे । उनके हौसलो को उड़ान दे । वो लड़कियां ही है जो हर दिशा में अपने हुनर का परचम लहरा रही है ।


 

 

Loading...
Loading...

Comments