माकपा गोमिया लोकल कमेटी का 10 वा सम्मेलन आयोजित हुआ

 
माकपा गोमिया लोकल कमेटी का 10 वा सम्मेलन आयोजित हुआ

माकपा गोमिया लोकल कमेटी का 10 वा सम्मेलन आयोजित हुआ

गोमिया/ बोकारो/ झारखंड


गोमिया प्रखंड अंतर्गत पलिहारी गुरुडीह पंचायत सचिवालय में भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) गोमिया लोकल कमेटी का 10 वाँ सम्मेलन आयोजित हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता विनय स्वर्णकार, विनय महतो, लखन महतो ने किया। उक्त सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि सीपीआईएम राज्य सचिव मंडल सदस्य रामचंद्र ठाकुर, जिला सचिव बीडी प्रसाद, जिला सचिव मंडल सदस्य प्रदीप कुमार विश्वास, पूर्व जिला सचिव भागीरथ शर्मा, माकपा नेता श्याम बिहारी सिंह दिनकर, माकपा नेता मनोज पासवान, माकपा नेता अख्तर खान, माकपा नेता विजय भोय उपस्थित थे। सर्वप्रथम अतिथियों ने बैंक मोड में स्थित बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

तत्पश्चात सीपीआईएम राज्य सचिव मंडल सदस्य कॉमरेड रामचंद्र ठाकुर ने झंडोत्तोलन किया। जिसके बाद सम्मेलन की कार्यवाही चालू की गई। इस दौरान 11 सदस्यी गोमिया लोकल कमेटी का पुनर्गठन किया गया। जिसमें राकेश कुमार, विनय स्वर्णकार, लखन महतो, विनय महतो, राजेंद्र प्रजापति, घनश्याम महतो, भुनेश्वर महतो, शंकर प्रजापति, अजय कुमार नायक, योगेंद्र प्रजापति, भोला स्वर्णकार आदि लोगों को सर्वसम्मति से चुना गया। आमंत्रित सदस्य सहदेव महतो, पूरन मांझी, अरुण प्रजापति थे। वहीं राकेश कुमार को सचिव बनाया गया।

सम्मेलन को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि गोमिया अंचल के अंदर पार्टी अपने स्थापना काल से ही जंगल की परती जमीन गरीब किसानों को देने, वन कानून 2006 को लागू करने, सिंचाई पेयजल, चिकित्सा की समस्याओं के समाधान के लिए विस्थापितों के मुआवजा पुनर्वास व रोजगार के लिए एवं मजदूरों के वाजिब हक के लिए पार्टी संघर्ष करती रही है। कोरोना काल में भी जब पूरा देश घरों में अपनी सुरक्षा के लिए केद था, उस समय गोमिया में है हमारी पार्टी के कार्यकर्ता कोरोना वायरस की रोकथाम व राहत कार्य में तेजी लाने के प्रयासों को लेकर बिना अपनी जान की परवाह किए सड़कों पर संघर्ष कर रहे थे। व

र्तमान में उद्योगों की बंदी व कृषि संकट के कारण गोमिया आर्थिक संकट से गुजर रहा है, रोजगार के अभाव में युवाओं का पलायन हो रहा है, सरकारी योजनाओं में व्याप्त भ्रष्टाचार के कारण अनेक गरीब जनता सामाजिक सुरक्षा के लाभ से वंचित है। पेयजल ,शिक्षा, चिकित्सा की समस्या बरकरार है।वहीं सम्मेलन में कुछ बिंदुओं पर प्रस्ताव पास हुआ। जिसमें आईईएल ओरिका कंपनी द्वारा सार्वजनिक पेयजलापूर्ति का विस्तार बैंक मोड़ से गोमिया एवं पलिहारी गुरुडीह पंचायत की मुख्य सड़कों तक किया जाए।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोमिया में सभी तरह के इलाज हेतु पर्याप्त डॉक्टर की व्यवस्था की जाए। जंगल की परती भूमि में वर्षों से रह रहे लोगों को उस जमीन का मालिकाना अधिकार दिया जाए। गोमिया अंचल के बंद पड़े सभी कोलियरियों को चालू कर युवाओं को रोजगार दिया जाए। सीसीएल, आईईएल,ओएनजीसी के द्वारा इससे सटे गांवों का विकास किया जाए। गोमिया रेलवे क्रॉसिंग में जल्द ओवरब्रिज का निर्माण कराया जाए। मजदूर विरोधी लेबर कोड और किसान विरोधी तीन काला कृषि कानून रद्द किया जाए, सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण पर रोक लगाया जाए।

माकपा नेता राकेश कुमार ने कहा:
माकपा गोमिया लोकल कमेटी सचिव राकेश कुमार ने कहा कि गोमिया के ग्रामीण समेत शहरी क्षेत्र के जनसमस्याओं को उठाना और संघर्ष करना हमारी पार्टी के प्राथमिकता होगी। रोजगार, पेयजल, चिकित्सा, विस्थापन एवं कृषि के लिए संघर्ष पार्टी की ओर से किया जाएगा।

FROM AROUND THE WEB