स्मार्ट सिटी की कुछ परियोजनाएं जल्द सिरे चढ़कर मूर्तरूप लेंगी

 
स्मार्ट सिटी की कुछ परियोजनाएं जल्द सिरे चढ़कर मूर्तरूप लेंगी

 डीसी एवं केएससीएल के सीईओ अनीश यादव ने अंर्तविभागों के अधिकारियों के साथ मीटिंग कर छोटे-छोटे मसलों का निकाला हल।


करनाल 
         

   उपायुक्त एवं करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ अनीश यादव ने सोमवार को, स्मार्ट सिटी की कुछ परियोजनाओं को सिरे चढ़ाने में आ रहे छोटे-छोटे मसलों का हल करने के लिए अंर्तविभागों के अधिकारियों के साथ, लघु सचिवालय के सभागार में एक मीटिंग की। मीटिंग में विभागों से डीआरओ श्याम लाल, जिला शिक्षा अधिकारी राजपाल चौधरी, सिंचाई विभाग के एक्सईएन राजेश चोपड़ा, नगर निगम के एक्सईएन अक्षय भारद्वाज व एई सुनील भल्ला को आमंत्रित किया गया था, जबकि केएससीएल के जीएम रमेश मढ़ान, डीजीएम योगेश शर्मा, एक्सईएन सौरभ गोयल व रमन कुमार, पीएमसी प्रवीन झा, स्पोर्ट इंजीनियर मोहन शर्मा तथा लैंडस्केपिंग ऑर्किटैक्ट पुर्णिमा मौजूद रहे।

जल्द सिरे चढ़ेंगे प्रोजेक्ट, ईश्यू हुए दूर, जनता को मिलेंगी सहूलतें- मीटिंग में पहले डब्ल्यू.जे.सी. के पुल के साथ लगते एक खाली पड़े हिस्से को पार्क और पाथ-वे के रूप में विकसित करने पर सिंचाई विभाग के एक्सईएन के साथ चर्चा की गई। उपायुक्त ने कहा कि जमीन सिंचाई विभाग की है, जो एनओसी देगा, लेकिन वर्तमान में किसी भी रूप में प्रयोग में नहीं ली जा रही जगह को स्मार्ट सिटी खूबसूरत बनाएगा। इसमें गार्डन ऑफ 5 एलीमेंट नाम से पार्क और पाथ-वे बनेंगे।

 बता दें कि अरसा पहले सिंचाई विभाग की ओर से यहां एक स्टोर बनाया था, जो अब कंडम पड़ा है। इसी प्रकार नगर निगम का सेकेण्डरी डम्पिंग पाँयट भी है। उपायुक्त ने सिंचाई विभाग के एक्सईएन को निर्देश दिए कि स्मार्ट सिटी ने सभी जरूरी डॉक्यूमेंट विभाग को दे दिए हैं, जल्द एनओसी की प्रक्रिया पूरी करवा दें, इसके बाद कंडम स्टोर को हटाया जाएगा और पार्क डव्ल्प किया जाएगा। उन्होंने नगर निगम के एक्सईएन को निर्देश दिए कि वे सेकेण्डरी डम्पिंग पाँयट को हटवा दें।

फूगसढ़ में मल्टी पर्पज हाल के निर्माण के मसले का भी हुआ हल- बता दें कि फूसगढ़ में स्मार्ट सिटी की ओर से एक मल्टी पर्पज हाल बनाए जाने की तैयारी है। इसमें वॉलीवाल बाल, बास्केट बाल जैसे इंडोर गेम बच्चे खेल सकेंगे। इसकी साईट के साथ ही सरकारी मिडल स्कूल लगता है। इस पर चर्चा के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि भविष्य में स्कूल अपग्रेड होगा, जिसमें ज्यादा जगह की जरूरत पड़ेगी। मल्टी पर्पज हाल के प्रोजेक्ट में फेरबदल हो जाए तो देख लें। इस पर उपायुक्त ने डीईओ को बताया कि मल्टी पर्पज हाल 60 गुणा 30 यानि 1800 वर्ग मीटर का है, खेलो के लिहाज से पूरा-पूरा है। इसके साथ लगती एक पार्किंग की जगह है, इसको छोटा कर लेंगे। उन्होंने डीईओ को यह भी बताया कि मल्टी पर्पज हाल बनाए जाने के बाद इसे मेन्टेन रखने के लिए स्कूल को ही हैंडओवर कर देंगे, लेकिन स्कूल टाईम के बाद इस एरिया के बच्चे भी यहां आकर खेल सकेंगे।

                 फूसगढ़ एरिया में ही स्मार्ट सिटी की ओर से 63 गलियों का पुर्ननिर्माण किया जा रहा है। गलियों में टाटा कम्पनी की ओर से पाईप लाईन डाली गई हैं, लेकिन उनसे घरों के कनैक्शन नहीं जुड़े हैं। उपायुक्त ने मीटिंग में आए निगम अधिकारियों से कहा कि वे कनैक्शन वाला काम भी करवा लें। सड़कें बनाने का तभी फायदा है, जब सीवरेज लाईनो के कनैक्शन हों।  

मीरा घाटी पर 100 फुट ऊंचे झण्डे का प्रोजेक्ट भी निगम को हैंडओवर- बता दें कि कुछ समय पहले केएससीएल की ओर से मीरा घाटी चौक का स्वरूप बदला गया था और इसे आकर्षक बनाया गया था। एक 100 फुट ऊंचा ट्राईकलर भी लगाया गया था, जो यहां खूबसूरती से लहरा रहा है। चौक पर एक वाटर बॉडी में लगाए गए फव्वारे भी बंद पड़े थे, जो चालू कर दिए गए थे, बाउण्डरी की मरम्मत और वाईट वाश भी किया गया था। अब केएससीएल की ओर से यह सुविधाएं नगर निगम को हैंडओवर हो जाएंगी।

मोबाईल टॉयलेट की मेन्टेनेन्स भी नगर निगम को- मीटिंग में उपायुक्त ने बताया कि केएससीएल की ओर से 10 मोबाईल टॉयलेट खरीदे जाने थे, 4 खरीद लिए गए हैं, 2 फ्लाईओवर अंडर स्पेस प्रोजेक्ट में लगाए गए हैं, जबकि 1 डब्ल्यू,जे.सी. के कैनाल डव्ल्पमेंट फ्रंट में लग चुका है, शेष भी खरीदे जाएंगे और वह भी अलग-अलग जगहों पर रखे जाएंगे। उन्होंने मीटिंग में आए निगम अधिकारियों से कहा कि इनकी मेन्टेनेन्स भी निगम करेगा, ताकि यह लम्बे समय तक प्रयोग में बने रहें।

 निगम के एक्सईएन ने कहा कि मेन्टेन कर रखेंगे। पुरानी सब्जी मण्डी स्थल पर पार्किंग का नया ठेका भी एम.सी. को देने पर हुई बात- उपायुक्त ने बताया कि पुरानी सब्जी मण्ड़ी में एक साल पहले पार्किंग का टैण्डर लगाकर ठेका दिया गया था, इससे व्यस्त बाजारों में कंजैशन कम हुई है और यह इनकम का भी सोर्स है। उन्होंने इसका नया ठेका नगर निगम की ओर से करने को कहा, इससे निगम की आय भी बढ़ेगी। इस तरह से मीटिंग में स्मार्ट सिटी के कुछ प्रोजेक्ट को लेकर अंर्तविभागों के साथ आ रहे छोटे-छोटे ईश्यू अधिकारियों से चर्चा कर दूर हुए। अब प्रोजेक्ट जल्द सिरे चढ़ेंगे।   
 

FROM AROUND THE WEB