अब रैपिड़ एक्शन फ़ोर्स के जवान बाढ़ पीड़ितों को देंगे चिकित्सीय सहायता, बांटेंगे राहत सामग्री

नदियों का पानी घुसा हुआ है पानी घटने के साथ ही संक्रामक बीमारियों के फैलने की आशंका काफ़ी बढ़ गयी है  इसलिए इस समय चिकित्सीय सहायता की भी आवश्यकता बढ़ गयी है 
 
अब रैपिड़ एक्शन फ़ोर्स के जवान बाढ़ पीड़ितों को देंगे चिकित्सीय सहायता, बांटेंगे राहत सामग्री 

स्वतंत्र प्रभात

प्रयागराज बाढ़ में फंसे लोगों की सहायता के लिए अब एनडीआरएफ़ के साथ रैपीड़ एक्शन फ़ोर्स के जवान भी जुट गए गए हैं। मंगलवार को आरएएफ़ के जवानों को NDRF की  कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी दी गयी। ताकि वह उनके साथ कंधे से कंधे मिलाकर बाढ़ पीड़ितों को  आपदा के समय सहायता कर सकें। रैपिड़ एक्शन फोर्स के इंस्पेक्टर बृजेश कुमार तिवारी ने जवानों को चिकित्सीय आपातकालीन स्थिति में लोगों को दिए जाने वाले इमरजेंसी मेडिकल टेक्निक आदी के बारे में जानकारी दी। इसमें सीपीआर शामिल है। यह किसी व्यक्ति की सांस या दिल की धड़कन के रुक जाने पर उसकी जान बचाने बचाने की चिकित्सीय तकनीक है। साथ ही उन्होंने बोट आदी के बारे में जवानों को बताया। इसके बाद आरएएफ़ के जवान एनडीआरएफ़ के साथ बाढ़ पीड़ितों को राहत पहुँचाने के लिए निकल पड़े। 

आरएएफ़ आपदाग्रस्त क्षेत्रों में जाकर मुफ़्त में दवाई बांटने और ज़रूरत पड़ने पर चिकित्सा सुविधा भी देंगे। इसी बीच गंगा और यमुना का जलस्तर सोमवार से लगातार घट रहा है। लेकिन अभी भी दोनो नदियाँ ख़तरे के निशान 84.73 से ऊपर हैं। जिससे शहर के कई तटीय इलाकों में अभी भी

   

FROM AROUND THE WEB