बकलोल के बाद धक्का-मुक्की की राजनीति

 
बकलोल के बाद धक्का-मुक्की की राजनीति
स्वतंत्र प्रभात-

मुझे नहीं पता कि ' बकलोल ' संसदीय शब्द है या नहीं लेकिन मै इसका इस्तेमाल प्रे करता रहता हूँ ,क्योंकि ये आम बोलचाल का शब्द है | इस शब्द को लेकर ' प्रेजिडेंट ' के हिंदी अर्थ को लेकर कोई विवाद नहीं है  | विवाद था भी सो उसे कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति [अभी प्रेसडेंट के लिए यही शब्द प्रचलित है ]महोदया से क्षमा याचना कर समाप्त कर दिया है  | हम यदि शब्दों के बजाय मुद्दों पर संसद और सड़क पर लड़ें तो बेहतर है .पर ऐसा होता नहीं है |
.बात मध्यप्रदेश  की है| . बीते रोज यहां पंचायत चुनाव के समय प्रदर्शनकारी पूर्व मुख्यमंत्री के साथ पुलिस की धक्का-मुक्की और जबाब में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा एक पुलिस अफसर की कालर पकडे जाने को लेकर राजनीति शुरू हो गयी है | .देश में संसद हो या सड़क ,जब तक राजनीति न हो किसी को चैन ही नहीं मिलता  | भोपाल के दृश्य देखकर मुझे सरकार और दिग्विजय सिंह दोनों पर तरस भी आया और गुस्सा भी |
 इससे ज्यादा मेरे जैसा एक आम आदमी कर भी क्या सकता है  ? दिग्विजय सिंह 75  साल के हैं और उन्हें इस तरह के प्रदर्शनों में संयमित रहना चाहिए |  धक्का-मुक्की में यदि कहीं उन्हें चोट लग जाये तो तकलीफ हो सकती है  | पुलिस में अब उनकी पीढ़ी के अफसर और जवान नहीं हैं  |
मध्य्प्रदेश में सत्तारूढ़ दल हाल के स्थानीय निकाय चुनाव में कांग्रेस की विजय से घायल नाग की तरह फुफकारते नजर आये |  पंचायत चुनावों में हर जिले में सत्तारूढ़ दल के नेता ही नहीं बल्कि मंत्री,विधायक और सांसद तक निर्वाचित सदस्यों को हाथ पकड़कर मतदान केंद्र में ले जाते देखे गए | ,और धक्का-मुक्की भी शायद इसीलिए हुई |  सवाल ये है कि पंचायत चुनाव जब दलगत आधार पर हुए ही नहीं तो सत्तारूढ़ दल के मंत्री,विधायक और सांसद इतनी मेहनत क्यों कर रहे थे ? लगता है कि सरकार ने सभी जिलों में मंत्रियों और पार्टी के विधायकों और सांसदों को जिला पंचायत अध्यक्ष का पद हथियाने के लिए सुपारी दी गयी थी |
जिला पंचायत अध्यक्ष पद हथियाने के लिए सत्तारूढ़ दल ने परमपरानुसार साम,दाम,दंड और भेद का इस्तेमाल किया |  कहीं निर्वाचित सदस्यों को बंदी बनाया तो कहीं उनका अपहरण कराया गया | कहीं प्रलोभन दिए तो कहीं कीमत अदा की  गयी | ऐसा कांग्रेस के समय भी होता था और आज भी हो रहा है ,इसलिए इस बात पर लिखने-पढ़ने का कोई अर्थ नहीं रह जाता  | भांग पूरे कुएं में घुली है | सवाल तो ये है कि कांग्रेस ने इस कदाचार को रोकने के लिए अपने प्रदर्शन की तैयारी मजबूती से नहीं की  | और यदि की भी तो उसमें  दिग्विजय सिंह जैसे बुजुर्ग नेताओं को शामिल कर उसे कमजोर और बदनाम करा लिया  |
दिग्विजय सिंह  कांग्रेस के सबसे ज्यादा विवादास्पद किन्तु लोकप्रिय नेता हैं | वे दस साल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और उन्होंने एक संकल्प के तहत एक निश्चित समय तक कोई चुनाव नहीं लड़ा | 2018  में कांग्रेस के सत्ता में आने से लेकर सत्ता से जाने तक में दिग्विजय सिंह की भूमिका रेखांकित की गयी  | दिग्विजय सिंह को उनकी मुंह बोली बहन भाजपा की वरिष्ठ नेता सुश्री उमा भारती ने मिस्टर ' बंटाधार ' का जो खिताब दिया वो दिग्विजय सिंह के साथ राहु की छाया की तरह चस्पा है  | बावजूद इसके दिग्विजय सिंह की उग्रता कम नहीं हुई | वे पार्टी के अकेले ऐसे नेता हैं जो भीड़ में जा घुसते हैं और पुलिस से हाथापाई करने से भी नहीं चूकते  |
पुलिस से हाथापाई करने में प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह भी कभी नहीं चूके | जब वे विपक्ष में थे तो वे भी दिग्विजय सिंह की तरह पुलिस से भिड़ते दिखाई देते थे | नेताओं को  पुलिस के बजाय आपस में भिड़ना चाहिए|  पुलिस तो सरकार के अधीन होती है ,उसका काम ही सरकार की सेवा करना है|  पुलिस के बिल्ले पर ' देशभक्ति,जनसेवा ' का जुमला तो देखने के लिए लगा हुआ है | पुलिस सत्तारूढ़ दल के इशारे पर कुछ भी कर सकती है|  गनीमत है कि पुलिस ने दिग्विजय सिंह की पसलियां नहीं तोड़ीं अन्यथा यदि सरकार का निर्देश होता तो ये भी मुमकिन है  | जैसे देश में ' मोदी है तो मुमकिन है'  वैसे ही मध्यप्रदेश में ' मामा है तो मुमकिन है '  का सूत्र प्रभावी है |दिग्विजय सिंह को याद रखना चाहिए कि यूपी में राहुल गांधी तक को पुलिस ने बेरहमी से धकिया दिया था |
बात अकेले मध्यप्रदेश की नहीं है |   देश में जितने भी भाजपा शासित राज्य हैं वहां यही सब हो रहा है |  कर्नाटक में सत्तारूढ़ दल के नेता की हत्या का मामला हो या गुजरात में जहरीली शराब से तमाम मौतों का मामला | लेकिन किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं . | सबके सब परम स्वतंत्र हैं | भाजपा के पास सत्ता में सभी भरत नहीं हैं जिन्हें राजमद नहीं होता | भरत के अलावा दूसरे लोग भी हैं और जिन्हें सत्ता का नशा जल्द चढ़ जाता है |.मध्य्प्रदेश  में लगातार पंद्रह साल सत्ता में रही भाजपा का नशा 18  महीने के लिए हिरण भी हुआ था किन्तु खरीद-फरोख्त ने भाजपा को दोबारा सत्ता में वापस कर नशे की ये खुराक दोबारा मुहैया करा दी |
भाजपा इस समय देश में नया इतिहास लिख रही है, इसलिए कांग्रेस को बहुत सम्हलकर नेतागीरी करना चाहिए | संसद में यदि कांग्रेस की नेता सोनिया गाँधी को निशाने पर लिया जा सकता है तो मध्यप्रदेश में दिग्विजय सिंह को कैसे छोड़ा जा सकता है ? मध्यप्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ अपने साथी दिग्विजय सिंह की तरह सड़क पर लड़ने का माद्दा नहीं रखते  | इसलिए उनकी पसलियां टूटने का खतरा न के बराबर है | ये खतरा दिग्विजय सिंह के साथ ज्यादा है  | कायदे से जो उग्रता वे दिखा रहे हैं वो उग्रता उनके विधायक बेटे को दिखाना चाहिए
 | उसके लिए ये अवसर है .
भोपाल में दिग्विजय सिंह के साथ पुलिस की या पुलिस के साथ दिग्विजय सिंह की हाथापाई की घटना को लेकर मेरी तरह मुमकिन है और लोग भी चिंतित हों  | मुमकिन   है कि कुछ लोग इसकी निंदा भी करें  | किन्तु मै किसी की निंदा करने के बजाय सभी से संयम  बरतने की अपेक्षा कर सकता हूँ | यदि संयम टूटेगा तो सिस्टम के साथ लोकतंत्र भी कलंकित होगा  | सत्तारूढ़ दल को भी चाहिए कि वो व्यवस्था के नाम पर हठधर्मिता से दूर रहे और पुलिस का कम से कम इस्तेमाल करे  | बाकी ' समरथ को नहीं दोष गुसाईं ' तो है ही .सरकार के हाथ कौन पकड़ सकता है ?
   

FROM AROUND THE WEB