20 हजार की आबादी पानी संकट से रही जूझ

इसके बाद अमृत योजना का काम देख रहे कर्मचारियों से संपर्क किया।
 
इसके बाद अमृत योजना का काम देख रहे कर्मचारियों से संपर्क किया।

स्वतंत्र प्रभात 


उन्नाव। डीएम आवास से करीब सौ मीटर पहले वीआइपी क्षेत्र सिविल लाइंस में पाँचवे दिन मंगलवार को भी पानी का संकट छाया रहा। गुरुवार को नई लाइन डालने के दौरान कटे जलापूर्ति के पाइप लाइन की मरम्मत नगर पालिका के असहयोग से अब तक नहीं हो सका। इससे मिश्रा कालोनी, निगम कालोनी, पूरब खेड़ा, दरोगा बाग रोड आदि मुहल्लों की लगभग 20 हजार आबादी को भीषण जल संकट से जूझना पड़ रहा है।

 बीते गुरुवार को डीएम आवास के करीब पुलिस क्लब के सामने अमृत पेयजल योजना के तहत नई पाइप लाइन डालने के दौरान पुरानी पाइप लाइन कहीं फट गई। इससे डीएम आवास आफीसर्स व न्यायिक अधिकारियों की कालोनी के आसपास के इलाकों में पेयजल आपूर्ति ठप हो गई। शुक्रवार को क्षेत्रीय लोगों ने इसके लिए नगर पालिका से संपर्क किया पर नगर पालिका ने कुछ भी करने से हाथ खड़े कर दिये। इसके बाद अमृत योजना का काम देख रहे कर्मचारियों से संपर्क किया।

 रात टूटी लाइन की मरम्मत भी की गई, लेकिन फाल्ट कई जगह होने के कारण सुधार नहीं हो सका। शनिवार को भी पूरे दिन मरम्मत का काम चलता रहा, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। बताते हैं कि शुक्रवार और सोमवार रात मरम्मत के बाद रात कुछ देर जलापूर्ति हुई और फिर बंद हो गई। नगर पालिका के जलकल अभियंता विवेक वर्मा ने कहा कि अमृत योजना का काम कर रही कंपनी को इसी क्षतिग्रस्त लाइनों की मरम्मत करने की जिम्मेदारी दी गई है।

 दूसरी तरफ लाइनों की मरम्मत में लगे सुपरवाइजर ने बताया कि नगर पालिका तीन दिनों से कहने के बाद भी वाटर सप्लाइ बंद नहीं करती है। इससे काम हो ही नहीं पा रहा है। अभी भी दो फाल्ट ठीक किये जा चुके हैं। बाकी पर काम होना रह गया है। 


मिश्रा कालोनी निवासी अशोक द्विवेदी, जय प्रकाश बाजपेयी, दरोगा बाग रोड निवासी शिशिर विश्वास, पूरब खेड़ा निवासी मो. कल्लन ने बताया कि पिछले तीन दिनों से पानी को लेकर परेशानी बढ़ी गई है। शिकायत के बाद इसका निस्तारण नहीं हो पा रहा है।

FROM AROUND THE WEB