गंगा यमुना नदी उफान पर,

5000 बाढ़ प्रभावित लोग शिविर में एनडीआरएफ युद्ध स्तर पर लगी 

 
गंगा यमुना नदी उफान पर, 


 

स्वतंत्र प्रभात

प्रयागराज जनपद प्रयागराज में गंगा, यमुना एवं उसकी सहायक नदियों में जलस्तर बढने से बाढ की स्थिति उत्पन्न हो जाने के कारण नगर क्षेत्र में कुल-17 बाढ शरणालय सक्रिय करके संचालित हो गये है, जिनमें कुल-1098 परिवार के साथ कुल-5090 बाढ प्रभावित व्यक्ति शरण लिये हुए है। बाढ प्रभावित व्यक्तियों को विभिन्न 17 बाढ शरणालयों में अवस्थापित किया गया है, जिनके उपयोग के लिए हवादार कमरे, उचित प्रकाश व्यवस्था, शुद्ध पेयजल, महिलाओं एवं पुरूषों के लिए अलग-अलग शौचालय एवं स्नानागार की व्यवस्था की गयी है तथा उनको दो समय नाश्ता चाय तथा दो समय भोजन एवं बच्चों के लिए दूध एवं बिस्किट आदि की व्यवस्था की गयी है। नगर निगम द्वारा साफ-सफाई की टीम, स्वास्थ्य विभाग द्वारा चिकित्सादल को तैनात किया गया है। राजस्व कर्मी एवं सिविल डिफेन्स के कर्मचारी तथा वार्डन/कार्यकर्ताओ द्वार

 खान-पान एवं अन्य व्यवस्थाओं में काफी सहयोग किया जा रहा है।उपरोक्त बाढ के दृष्टिगत एन0डी0आर0एफ0 की टीम द्वारा राहत एवं बचाव कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है और एन0डी0आर0एफ0 की टीम द्वारा बाढ में फंसे हुए कई परिवारों तथा व्यक्तियों को सुरक्षित ढंग से निकालकर बाढ शरणालयों में पहुॅचाया गया।इसी क्रम मे बाढ पीडितों के मदद के लिए खटीक सेना के प्रदेश युथ प्रदेश अध्यक्ष संजीव कुमार जिला अपराध निरोधक समिति के सचिव, संतोष कुमार श्रीवास्तव, सदस्य लक्ष्मीकांत मिश्रा एवं अन्य सदस्यों ने बाढ से प्रभावित व्यक्तियों के लिए राहत सामग्री उपलब्ध कराया गया है।NDRF. वाराणसी की टीम प्रयागराज में

गंगा और यमुना का पानी लगातार बढ़ता जा रहा है ऐसे में लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए वाराणसी से आई हुई 11 बीएन एनडीआरएफ की टीम ने मोर्चा संभाल रखा है और लगातार बाढ़ में फंसे लोगों को राहत बचाव का काम कर रही है और लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा रही है और जो लोग अपना घर छोड़कर बाहर नहीं निकालना चाहते उनको  एनडीआरएफ के पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा फ्री मेडिसिन उपलब्ध कराया जा रहा है

 


 
   

FROM AROUND THE WEB