मिश्रिख सीतापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गंदगी से भरा

बूंद बूंद पानी को तरस रहे मरीज
 
मिश्रिख सीतापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गंदगी से भरा
अस्पताल परिसर के भीतर व बाहर जगह-जगह गंदगी व कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। परिषद के भीतर नालियां गंदगी से बज बजा  रही हैं

मिश्रिख सीतापुर जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मिश्रिख खुद में बीमार पड़ा है उसकी सबसे बड़ी वजह अस्पताल परिसर के भीतर व बाहर जगह-जगह गंदगी य
व कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। परिषद के भीतर नालियां गंदगी से बज बजा  रही हैं

क्षेत्र के लोग यहां स्वास्थ्य लाभ लेने के लिए आते हैं लेकिन अस्पताल में जमा गंदगी से वातावरण पूरी तरह दूषित है जिससे मरीज को स्वास्थ्य लाभ होने के वजह उसकी हालत और खराब हो जाती है। यही नहीं अस्पताल परिसर मे पेयजल की भी समुचित व्यवस्था नहीं है वैसे तो पूरे अस्पताल में कई हैंडपंप लगे हुए हैं लेकिन उनमें अधिकांश हाथी के दांत साबित हो रहे हैं एक तरफ बीमार व्यक्ति दूषित वातावरण के कारण और अधिक बीमार हो जाता है

 वहीं दूसरी तरफ मरीज के साथ के तीमारदार बूंद बूंद पानी के लिए तरसते हैं नवागत अधीक्षक आशीष सिंह का ध्यान अस्पताल की व्यवस्थाओं ना जाकर खाओ कमाओ नीति में मस्त रहते हैं उनको ना तो अस्पताल परिषद के वातावरण से मतलब है और ना ही अस्पताल में आए हुए

 व्यक्तियों को मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं से यदि यही हाल रहा यह लापरवाही कहीं बहुत बड़े संकट को न पैदा कर दे क्योंकि खुद स्वयं में बीमार पड़ा अस्पताल लोगों को क्या स्वास्थ्य लाभ पहुंचा पाएगा जो नाम मात्र सुविधाएं अस्पताल में मरीजों को प्रदान की जाती हैं वह अस्पताल में लगे हुए प्राइवेट आदमी और दलालों की भेंट चढ़ जाती है

 जिससे अस्पताल आया हुआ मरीज तन से लूट के आता ही है यहां पर धन से भी लुट जाता है यदि शासन प्रशासन ने इस लापरवाही की तरफ ध्यान ना दिया तो अस्पताल की स्थिति और भी भयावह हो जाएगी।

परसेंडी ब्लॉक में भ्रष्टाचार जारी जिम्मेदार मौन
ग्राम पंचायत चांदपुर में तैनात पंचायत सचिव लक्ष्मण तिवारी ने आवास के बदले मांगे लाभार्थियों से 10 -10 रूपये
तालगांव सीतापुर विकासखंड परसेंडी क्षेत्र के अंतर्गत भ्रष्टाचार रुकने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसा ही एक मामला ग्राम पंचायत चांदपुर का प्रकाश में आया है जहां तैनात ग्राम विकास अधिकारी लक्ष्मण तिवारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पात्र लाभार्थियों को आवास देने के बदले ₹10 हजार की मांग की जो लाभार्थी ग्राम विकास अधिकारी को पैसा नहीं दे पाये उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना की सूची में अपात्र कर दिया गया

 जिससे परेशान लाभार्थियों राम कुमारी पत्नी राम पाल, अंजुम बानो पत्नी फुरकान, श्यामू पुत्र गुलजारी ने जिलाधिकारी सीतापुर को प्रार्थना पत्र देकर जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने की मांग की है।

 विकासखंड परसेंडी में पूर्व में तैनात कई ग्राम विकास अधिकारियों को जिला अधिकारी ने भ्रष्टाचार के मामले में निलंबित कर रखा है इसके बावजूद ग्राम विकास अधिकारी लक्ष्मण तिवारी भ्रष्टाचार करने से जरा भी नहीं चूक रहे हैं।प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभार्थी ग्रामीणों ने जिलाधिकारी सीतापुर को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की मांग की है साथ ही न्याय न मिलने पर धरना प्रदर्शन करने की बात कही है।

FROM AROUND THE WEB