प्रशासन की घोर लापरवाही के चलते दो लाख की सरकारी संपत्ति स्वाहा

 
Pkv
 

जाँच में विजय कुमार सिंह को दिया गया दोषी करार बाकी के आरोपियों का नाम गायब

स्वतंत्र प्रभात
भीटी अम्बेडकरनगर। प्रशासन की घोर लापरवाही के चलते दो लाख की सरकारी संपत्ति स्वाहा हो गई। मामला ग्राम पंचायत मुकुंदीपुर के मजरे केंवटाही गाँव का है। वित्तीय वर्ष 2009-10 में ग्राम केवटाही में राज्य वित्त आयोग के 1लाख 99 हजार की लागत से बने खड़ंजे को गांव के ही रितेश सिंह अभिषेक सिंह पुत्रगण विजय कुमार सिंह, विजय कुमार सिंह पुत्र राम नरेश सिंह व राम नरेश सिंह पुत्र राम चरन सिंह द्वारा उखाड़कर अपने व्यक्तिगत काम मे इस्तेमाल कर लिया गया। गांव के अमित कुमार सिंह द्वारा खंड विकास अधिकारी को दिए गए एक शिकायती प्रार्थना पत्र में इसके बावत जानकारी दी गई। मामले को संज्ञान में लेते हुए बीडीओ भीटी अनुराग सिंह ने ग्राम पंचायत अधिकारी को जांच सौंपी थी। इसके अनुपालन में 24 दिसम्बर 2021 को सचिव द्वारा जांच कर जांच रिपोर्ट 3 जनवरी 2022 को बीडीओ भीटी अनुराग सिंह को सौंप दी गयी। जिसमे विजय कुमार सिंह को दोषी करार दिया गया तथा बाकी के आरोपियों का नाम गायब कर दिया गया। खबर लिखे जाने तक कोई भी विधिक कार्यवाही अभी तक सुनिश्चित नही की गई है। एक तरफ जहां सरकार गांव के सतही स्तर में सुधार के लिए प्रयासरत है। वहीं कुछ अराजक तत्वों द्वारा सरकारी संपत्ति का दुरुपयोग चिंता का विषय है।शिकायतकर्ता अमित सिंह ने इस प्रकरण से 1076 मुख्यमंत्री सहायता केंद्र, मंडलायुक्त अयोध्या, उपजिलाधिकारी भीटी, जिलाधिकारी अम्बेडकर नगर आदि को अवगत करा दिया है। जनहित से जुड़े इस मुद्दे पर जिस प्रकार प्रशासन चुप्पी साधे हुए है वह निराशाजनक है। खंड विकास अधिकारी भीटी को मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल उचित कार्यवाही करनी चाहिये।शिकायत कर्ता अमित सिंह का कहना है कि अगर दोषियों को सजा नही मिली तो प्रशासन के विरुद्ध वे न्यायालय की शरण लेंगे।फिलहाल इस मामले को लेकर क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म है।अब देखने की बात है कि पंचायत विभाग क्या कदम उठता है।

FROM AROUND THE WEB