स्वास्थ्य विभाग में संविदा स्टाफ कर्मियों की मनमानी चरम सीमा पर

 
स्वास्थ्य विभाग में संविदा स्टाफ कर्मियों की मनमानी चरम सीमा पर

 उच्च अधिकारियों के आदेश को दरकिनार कर पूरी तरह से मनमानी पर उतारू 

बाराबंकी

स्वास्थ्य विभाग में हुआ बड़ा फेरबदल अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी आर0सी0एच0 द्वारा दिनांक 04/05/2022 को किया गया स्थानांतरण जिसमें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाटा बरौली में तैनात संविदा स्टाफ बी0 ए0 एम0 विनोद कुमार मौर्य का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र फतेहपुर हुआ स्थानांतरण लेकिन जनाब अभी भी अपने पुराने स्थान पर जमे हुए हैं सूत्रों के मुताबिक इतना ही नहीं 

इस आदेश का पालन न करते हुए अपने ऊंचे रसूख के दम पर फतेहपुर हुए आदेश को संशोधित करा कर समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिद्धौर कराने का कर रहे भरपूर प्रयास जिसकी खबर सोशल मीडिया पर खूब हो रही है वायरल खबर को देख सिद्धौर क्षेत्र के आसपास के गांव के ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है क्योंकि कुछ दिन पूर्व में भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही  खबर में देखा गया था कि बी0ए0एम0 विनोद कुमार मौर्य अपना स्थानांतरण सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिद्धौर कराने का भरपूर किए थे प्रयास लेकिन मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा पत्रावलियों को देखते हुए नहीं किया था समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिद्धौर स्थानांतरण।

 समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिद्धौर बना चर्चा का विषय

 क्योंकि आपको बताते चलें की इससे पूर्व में सीएससी सिद्धौर में ही तैनात थे विनोद कुमार मौर्य दर्जनों भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद इनका हुआ था यहां से तबादला  तो वही 27 अप्रैल को आदेश होने के बाद भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिद्धौर में तैनात स्टाफ संविदा डाटा एंट्री ऑपरेटर योगेश कुमार पांडेय का सीएससी हैदरगढ़ हुआ है स्थानांतरण 
तो वहीं यह भी जनाब किसी से कम नहीं ये भी इस आदेश को संशोधन कराने का कर रहे भरपूर प्रयास उच्च अधिकारियों के आदेश को दरकिनार कर पूरी तरह से मनमानी पर उतारू हो कर दोनों संविदा कर्मी बाबूजी बने अभी भी अपनी अपनी कुर्सी पर जमे हुए हैं।

आखिर क्या वजह है कौन है इन सब पर मेहरबान विनोद कुमार मौर्या बार-बार सीएससी सिद्धौर स्थानांतरण कराने का कर रहे हैं भरपूर प्रयास तो वही अपनी कुर्सी पर जमे हुए  योगेश पांडेय भी अपने हैदरगढ़ हुए आदेश को संशोधन कराने के लिए भरपूर कर रहे हैं प्रयास आखिर क्यों नहीं करना चाहते उच्च अधिकारियों के आदेश का पालन  क्यों है अपनी मनमानी पर उतारू

जो कर्मचारी सिद्धौर में है वह जाना नहीं चाहता जो चला गया है वह बार-बार आने का कर रहा भरपूर प्रयास आखिर ऐसा क्या है सीएससी सिद्धौर में यह अपने आप में एक बड़ा सवाल है जबकि उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक द्वारा सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों का औचक निरीक्षण कर दिए जा रहे हैं कड़े दिशा निर्देश स्वास्थ्य व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए इतने कम समय में दो बार बाराबंकी का कर चुके हैं

 दौड़ा लेकिन संविदा कर्मी उनके मंसूबों पर पानी फेरने से बाज नहीं आ रहे हैं तो वहीं इस संबंध में जब अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ केनम त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस तरह का ऐसा कोई भी आदेश संशोधन होने की सूचना मेरे संज्ञान में नहीं है।
 

FROM AROUND THE WEB