अलीगढ़ की टॉप खबरे

अलीगढ़  की टॉप खबरे

धार्मिक उन्माद का दाग झेलने वाले अलीगढ़ ने अयोध्या प्रकरण पर दिखाई दरियादिली 
अलीगढ़।

शनिवार को विवादित स्थान पर श्रीरामलला विराजमान का हक होने का फैसला आने के बाद डीएम की शांति व्यवस्था की बैठक में पूर्व विधायक ने दोबारा इसका एलान उसी लहजे में किया, जैसा वह 24 घंटे पहले कर चुके थे। इस पर सांसद सतीश गौतम ने उनसे ठिठोली करते हुए कहा कि विधायक जी.. सस्ते में नहीं छुटोगो..। यानी 11 हजार रुपये कम है। चंदा और बढ़ाना पड़ेगा। इस पर विधायक ने फिर से कहा कि वह पीछे नहीं हटेंगे। सबसे चार कदम आगे ही रहेंगे।

इन दोनों नेताओं के बीच हुए इस संवाद ने पूरी बैठक का बहुत हल्काफुल्का कर दिया। चलते चलते विधायक ने फिर से कहा कि वह दुआ करेंगे कि दोबारा इस पूरे देश में ऐसे मुद्दों पर शांति व्यवस्था की बैठक न बुलाई जाए। इसके अलावा और सभी मुद्दों पर बैठक होती रहे और सब एक साथ आते रहेें, लेकिन ऐसे धार्मिक मुद्दे अब सामने न आए। बसपा जिलाध्यक्ष तिलकराज यादव, सपा नेता सलमान शाहिद, राजेश सैनी, कांग्रेस नेता सहित कई भाजपा नेताओं ने भी धार्मिक सौहार्द बढ़ाने के लिए ऐसी ही पेशकश की है।

खैर, इस बैठक में ही जिलाधिकारी ने गंगा जमुनी तहजीब के लिए विख्यात अलीगढ़ में अमन चैन कायम रखने के लिए अलीगढ़ सिविल सोसाइटी का गठन करने का एलान किया। सभी धर्मों से जुड़े मुअज्जिज लोगों से सजी यह कमेटी महानगर में अमन चैन कायम रखने में अहम भूमिका निभाएगी। विशेष रूप से त्योहारों के समय निकलने वाले जुलूस आदि के समय रास्ते के विवाद एवं अन्य विवादों को सुलझाने में प्रशासन का सहयोग करेगी।

अयोध्या प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को आए हुए सोमवार को दो दिन पूरे हो जाएंगे। इस बीच अलीगढ़ में अमन चैन का माहौल बना रहा। कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। कारण ये कि सभी धर्म और वर्ग के लोगों ने फैसला आने से पहले ही इसे मन सेंग स्वीकार कर लिया था। शांति कमेटियों की बैठक, जिला प्रशासन की सार्थक पहल, पुलिस फोर्स का माकूल इंतजाम इसमें सहयोगी बना।

कदम से कदम मिलते गए तो बात बनती गई। गौर करने लायक ये भी रहा कि कभी दशकों तक धार्मिक उन्माद का दाग झेलने वाले इस शहर ने इस बार अतिसंवेदनशील अयोध्या प्रकरण पर दरियादिली दिखाई। इसमें पूर्व विधायक जमीरउल्लाह द्वारा मंदिर या मस्जिद निर्माण के लिए सबसे पहले 11 रुपये के चंदे की पेशकश ने भी लोगों को भाईचारे का सफल संदेश दिया। पूर्व विधायक ने फैसला आने से पहले ही एलान किया था कि वहां मंदिर बने या मस्जिद वह सबसे पहले 11 हजार रुपये का चंदा देंगे।

इस कमेटी के प्रस्ताव को सभी ने स्वीकार किया। डीएम ने बताया कि कमेटी गठन करते समय ध्यान रखा जाएगा कि इससे हिंदू मुस्लिम, सिख, ईसाई समेत अन्य सभी धर्मों के कम से कम दो मुअज्जिज गैर राजनैतिक लोग हों। जो प्रशासन के साथ कदम से कदम मिला कर तात्कालिक विवादों को सुलझाने में भी अहम भूमिका निभाएं।

 

ईद मिलाद उन नवी पर हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ राष्ट्रीय ध्वज फहराया 
अलीगढ़। इस्लाम धर्म के आखिरी नवी पैगंबर मोहम्मद साहब के जन्मदिन (ईद मिलाद उन नवी) पर रविवार को शहर में अलग-अलग स्थानों पर जुलूस निकाला गया। जुलूस में हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारों के साथ राष्ट्रीय ध्वज भी फहराया गया। इसके साथ ही भुजपुरा चैराहे पर विशेष दुआ का आयोजन भी किया गया।

एक बड़ा जुलूस जीवनगढ़ से शुरू हुआ। इसमें महापौर मो. फुरकान सहित सैयद साहब और उलमा हजरात शामिल रहे। जुलूस जीवनगढ़ से शुरू होकर केला नगर चैराहे, दोदपुर, मेडिकल चैराहा, मेडिकल रोड, सफीना अपार्टमेंट होकर निजमी पुलिया से इकरा स्कूल के पास समाप्त हुआ। इस दौरान हजारों की संख्या में लोग जुलूस में शामिल रहे। जुलूस में मुल्क में अमन और तरक्की की दुआ मांगी गई। हिंदुस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए गए।

इसके अलावा भुजपुरा क्षेत्र में जुलूस का आयोजन किया गया, जिसमें बड़ी संख्या में उलेमा, इकराम मौलाना, बुद्धिजीवी, समाज सेवक सहित क्षेत्रीय लोगों ने जुलूस में भाग लिया। रानीवाला बाग दड़गा, मोहम्मदिया मस्जिद, संदली मस्जिद, अशाके मस्जिद, गौसिया मस्जिद सहित जुलूस विभिन्न क्षेत्रों में होता हुआ भुजपुरा चैराहे पहुंचा। यहां पर एक विशेष दुआ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर माडर्न उर्दू शिक्षा समिति के प्रदेश महामंत्री बाबा फरीद आजाद ने कहा कि इस विशेष दुआ में देश प्रदेश की तरक्की, एकता एवं भाईचारा, अमन प्यार मोहब्बत की दुआ मांगी गई है।

साथ ही आपसी भाईचारा सांप्रदायिक सद्भाव कायम रखने की अपील की गई है। इस अवसर पर क्षेत्रीय पार्षद मो. हफीज अब्बासी, वसीम राजा, राजू मुस्तकीम, राजी सहारन खान, सूफी बन्ने, शालू मौलाना, जर्रार लियाकत, मुन्ना शमशाद, महमूद नेताजी, मो. मुनीम, तस्लीम राजा, मुश्ताक अली अब्बासी आदि मौजूद थे।
केले नगर चैराहे पर मिठाई बांटी, अमन की दुआ की

दारा शिकोह फाउंडेशन ने जश्न ए ईद मिलाद उन नबी पर जुलूस ऐ मोहम्मदी के लिए एक मिष्ठान वितरण कैंप का आयोजन केला नगर चैराहे पर किया गया।जुलूस को संबोधित करते हुए अध्यक्ष आमिर रशीद ने मजहब मसलक और सभी धर्मों में आपसी इत्तेहाद पर रोशनी डालते हुए कहा की सभी से मिल जुलकर रहना हमारी संस्कृति और सभ्यता की खास बात रही है। हमें इसे हमेशा कायम रखना चाहिए। उन्होंने कहा की पूरी दुनिया में इस्लाम अमन, सलामती व समाजसेवा से फैला है। तलवार से नहीं फैला है।

उपाध्यक्ष तनवीर रशीद ने मुल्क में अमन और भाईचारा कायम रखने की लोगों से अपील की। इस अवसर पर मो. कामरान, मौलाना नौशाद आलम चिश्ती, सैयद जमाल अहमद ने दुआ की। कार्यक्रम में अजीमुद्दीन, आरएन सिंह, एमयू खान, सलमान, फराज, वली, प्रमोद कुमार, अली वापसी, अब्बास आदि मौजूद थे।
सिविल लाइन में जुलूस ए मोहम्मदी निकला

सिविल लाइन क्षेत्र में जुलूस ए मोहम्मदी का आयोजन किया गया। जिसकी कयादत नाजिम मदरसा फैजानी मुस्तफा मौलामा जमाल साहब ने की। जुलूस में आम आदमी पार्टी के जिला अध्यक्ष परवेज अहमद, छात्र सभा प्रदेश अध्यक्ष कामिल खान, वरिष्ठ नेता नौशाद आलम चिश्ती आदि मौजूद रहे।
पुलिस और प्रशासन भी रहा बेहद अलर्ट
ईद मिलादुन नवी के अवसर पर सुरक्षा को लेकर पुलिस और प्रशासन हाई अलर्ट पर रहे। जुलूसों पर खुफिया पुलिस की कड़ी नजर रही। साथ ही पुलिस और अन्य सुरक्षा कर्मी भी अलर्ट पर रहे। जुलूस जिन रास्तों से होकर गुजरा, उन रास्तों पर जगह-जगह थानावार पीआरवी की टीमों सहित फोर्स को तैनात किया गया था।

डीएम-एसएसपी ने लोगों से अपील की थी कि वह शांतिपूर्ण तरीके से जुलूस निकालें। किसी भी प्रकार से शहर का माहौल न बिगड़ने दें। इसी क्रम में रविवार को डीएम चंद्रभूषण सिंह के निर्देश पर एसीएम द्वितीय रंजीत सिंह, सीओ तृतीय अनिल समानिया, सेक्टर मजिस्ट्रेट एनके सहानिया ने जुलूस पूरी सुरक्षा व्यवस्था के साथ जीवनगढ़, जमालपुर, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय आदि जगहों पर सकुशल संपन्न कराया।

 

डेंगू नियंत्रण के लिए जिम्मेदार विभाग बना सिर्फ सफेद हाथीःविवेक बंसल

  • पैथलाॅजी लैब से डेगूं की जगह बना दी मलेरिया की रिपोर्ट

अलीगढ़। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव विवेक बंसल को डेंगू हुआ है, लेकिन जब उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से जांच कराई तो उन्हें मलेरिया की रिपोर्ट दे दी गई। जब निजी लैब में जांच करवाई तो डेंगू कन्फर्म हुआ।

इस तरह स्वास्थ्य विभाग रिपोर्ट बदल कर बीमारी पर नियंत्रण कायम करने का प्रयास कर रहा है।स्वास्थ्य विभाग की इस कार्यप्रणाली पर बेहद नाराजगी जताते हुए रविवार को विवेक बंसल ने कहा कि जब उनके साथ यह हो रहा है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि जनता के साथ क्या हो रहा होगा?

विवेक बंसल डेंगू की बीमारी से तेजी से उबर रहे हैं और रविवार को उनका प्लेटलेट काउंट 1.24 लाख तक आ गया। विवेक बंसल ने कहा कि उनके मामले में डेंगू को मलेरिया बताने का प्रयास किया गया। इससे साफ है कि शहर की पैथोलॉजी लैब अगर सही जांच कर रही हैं तो उन्हें परेशान किया जा रहा है। इस तरह की कार्यशैली को बदलने की जरूरत है।
 

अपनी निजी फागिंग मशीन खरीदेंगे
अलीगढ़ डेंगू की बीमारी से उबर रहे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय सचिव विवेक बंसल फागिंग आदि की व्यवस्था पर सरकारी तंत्र से निराश होकर स्वयं ही फागिंग के उपकरण और मशीनें खरीद रहे हैं। उनका कहना है कि वह इन मशीनों का प्रयोग न सिर्फ अपने यहां पर करेंगे, बल्कि अगर कहीं जनता के क्षेत्र में उसकी जरूरत होगी तो वहां पर भी उन्हें भेज देंगे। क्योंकि डेंगू नियंत्रण के लिए जिम्मेदार विभाग तो सिर्फ सफेद हाथी बनकर बैठे हुए हैं। उन्हें जमीनी हकीकत से कोई लेना देना नहीं है।

 

डेंगू रोकथाम की कोई योजना नहींः राजीव
अलीगढ़। कांग्रेस नेता राजीव लीडर ने कहा है कि डेंगू को सरकार और स्वास्थ्य विभाग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। डेंगू का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार कई दिनों से डेंगू की बीमारी का सैकड़ों लोग शिकार हो रहे हैं। अब तक कई लोगों की डेंगू की बीमारी से मौत भी हो चुकी है।

पर स्वास्थ्य विभाग डेंगू की रोकथाम में पूरी तरह विफल साबित हुआ है। सरकार ने भी इस जानलेवा बीमारी से लड़ने के लिए भी कोई कार्य योजना तैयार नहीं की है। अब तक कमिश्नर कार्यालय सहित कई जगहों पर डेंगू का लार्वा पाया गया। क्या यही है स्वच्छ भारत अभियान है।

Comments