अयोध्या से उठी आपसी भाईचारे की आवाज़ मुस्लिमों ने राम मंदिर निर्माण के लिए की पत्थरों की सफाई

अयोध्या से उठी आपसी भाईचारे की आवाज़ मुस्लिमों ने राम मंदिर निर्माण के लिए की पत्थरों की सफाई

अयोध्या । धार्मिक नगरी में एक बार फिर सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल सामने आई है। राम मंदिर  समर्थक मुस्लिमों ने कारसेवक पुरम  राम मंदिर निर्माण कार्यशाला में पहुंचकर तराशे गए पत्थरों में लगी काई व फफूंदी को साफ किया.

मुस्लिमों के साथ अयोध्या  के संत महंत भी पत्थर की सफाई करते दिखे .

यही नहीं राम के सम्मान में मुस्लिम भी मैदान में के उदघोष के साथ तिरंगा लेकर मुस्लिमों ने कार्यशाला में राष्ट्रध्वज लहराया .इस दौरान मंदिर समर्थक मुस्लिम बबलू खान  ने कहा कि जितना हिंदू का राम पर हक है उतना हक मुसलमानों का भी है. कुछ कट्टरपंथी लोगों ने समाज को बरगलाने का काम किया है .

हिंदू और मुस्लिम को भड़काने का काम किया है . मोहम्मद अशफाक अहमद ने कहा कि हम राम को मानने वाले हैं और विश्वास है कि जल्द से जल्द देश के विकास के लिए जैसे जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाई गई है कि पूरे देश में एक ही कानून हो वैसे ही अयोध्या में राम का मंदिर भी बनेगा।

बड़ी संख्या में राम मंदिर निर्माण कार्यशाला कारसेवकपुरम पहुंचे मुस्लिम भाइयों ने मंदिर निर्माण की शिलाओं की सफाई की मुस्लिम समुदाय से जुड़े आफाक अहमद ने कहा कि जम्मू कश्मीर के रहने वाले लोग भी हिंदुस्तानी थे और अब वह पूरी तरह से आजाद हो चुके हैं।

कश्मीरी घुट घुट कर जी रहे थे लेकिन अब कश्मीर  में विकास की गंगा बहेगी . बबलू खान ने कहा कि अगर देश का विकास करना है तो अयोध्या में राम का मंदिर  बनना जरूरी है राम का मंदिर  बनने के बाद ही देश के विकास में और गति आएगी।इस दौरान विश्व हिन्दू परिषद् के प्रांतीय प्रवक्ता शरद शर्मा ने मंदिर निर्माण में सर्थन के लिए कार्यशाला में मौजूद अन्य साधू संतों के साथ मुस्लिम भाइयों का आभार जताया।

Comments