समाज में महिलाओं को बराबरी का स्थान सुनिश्चित करानामिशन का उद्देश्य .जकिया युसूफ 

समाज में महिलाओं को बराबरी का स्थान सुनिश्चित करानामिशन का उद्देश्य .जकिया युसूफ 

समाज में महिलाओं को बराबरी का स्थान सुनिश्चित कराना ही उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन का मुख्य उद्देश्य है।

वंचित महिलाओं की आमदनी को बढ़ाना और खतरे में कमी लाकर  गरीबी को दूर किया जा सकता है साथ ही इस योजना का प्राथमिक लक्ष्य महिलाओं को एकजुट करना और उन्हें सही जानकारी तथा फैसले लेने की क्षमता के साथ सशक्त बनाना था।

उक्त बाते जिला मिशन मैनजर बाराबंकी ने ग्राम विकास संस्थानकादिरपुर में 9 दिवसीय आई सी आर पी आवासीय प्रशिक्षण में कहीए  जिला मिशन मैनजर ने कहा कि अभी तक  राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन ;एनआरएलएमद्ध के तहत समूहों का गठन कराने के लिए अब तक आंध्रा से सीआरपी ;कम्यूनिटीरिसोर्सपर्सनद्ध को बुलाया जाता है

 लेकिन अब इस जिले की महिलाएं जल्द ही सीआरपी की भूमिका में नजर आएंगी। कार्यशाला के जरिए प्रशिक्षण प्राप्त कर रही 47 महिलाओं के दल में 19बही खाता लिखना सीख रही और बाकि को गरीबो से गरीबी की पहचान पद्धति पर तैयार किया जा रहा है । प्रशिक्षण के उपरांत ये सीआरपी दल दूसरे जिलों में महिलाओं के समूहों का गठन करेंगीए

प्रशिक्षण पूर्ण होने के उपरांत यह बैच जिले मेंए दूसरे जिलों और प्रदेश से बाहर जाकर बतौर सीआरपी कार्य करने में सक्षम हो जाएगा। इससे इन महिलाओं की आय के स्रोत बढ़ेंगे। डीएमएम ने बताया कि जो एसएचजी प्रथम 6 महीनों में अच्छे एसएचजी के 5 मूल सिद्धांतोंए नियमित बैठकए बचतए आंतरिक ऋणए ऋण की समय पर वापसीए खातों की पुस्तकों का उचित रख.रखाव का पालन करते हैं। वे सभी एसएचजी बैंक ऋण के लिए भी पात्र होंगे। उन्होंने बताया कि बैंक ऋण से ग्रुप के सदस्य अपनी जरूरतों को पूरा करने के साथण्साथ आजीविका गतिविधियों को शुरू कर सकते हैं। 

प्रशिक्षण चार सदस्यीय ट्रेनर्स विकास कुमार दृ डी आर पी दृ बदायु ए श्री आर पी सिंह. डी आर पी दृ बाराबंकी और दो बी आर पी की टीम करा रही हैए गांवों में संचालित समूहों की चयनित महिलाओं को प्रशिक्षण में शामिल किया गया हैए जिन्हें महिलाओं के समूह गठन के बारे में प्रशिक्षित किया जा रहा है।

समूह के गठन का मुख्य उद्देश्य समाज के सभी कमजोर तथा साधनहीन वर्गए विशेषकर महिलायों को समाज की मुख्य धारा में लाते हुए उनकी आर्थिक एवं सामजिक स्थिति में सुधार लाना हैए साथ ही इन महिलाओं को सशक्त एवं आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें आय सृजित करने वाली गतिविधियों से जोड़ा जाना है।

प्रशिक्षण का समापन प्रमाणपत्र वितरण के साथ किया जायेगा 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments