भगवतगीता आस्था ही नहीं अपितु जीवन पद्धति भी है- संतोष

भगवतगीता आस्था ही नहीं अपितु जीवन पद्धति भी है- संतोष

महेंद्रगढ़ (विनीत पंसारी)

कर्मभूमि कुरूक्षेत्र हरियाणा में दिया गया गीता का उपदेश मनुष्य को न केवल सही मार्ग दिखाता है बल्कि उसे हर परिस्थिति में संयमित रहने की सीख देता है।

यह बात राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सतनाली की प्राचार्या संतोष कुमारी ने मंगलवार को गीता महोत्सव के समापन मौके पर संबोधित करते हुए कही। गीता केवल उपदेश नहीं उपचार भी है।

गीता आस्था ही नहीं जीवन पद्धति भी है। गीता में निहित निष्काम कर्म के संदेश से प्रेरित हरियाणा सरकार सबका साथ-सबका विकास और जनकल्याण में समर्पित है।

उन्होंने कहा कि यह गीता का ज्ञान केवल एक अर्जुन के लिए नहीं बल्कि धरती पर हर मानव मात्र के लिए ज्ञान की बातें अति आवश्यक है। केवल गीता को पढऩे से नहीं बल्कि उसका मनन करने से फायदा होगा।

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments