ब्लाक से नदारत रहीं बीडीओ, एसडीएम ने दर्ज करायी रिपोर्ट

ब्लाक से नदारत रहीं बीडीओ, एसडीएम ने दर्ज करायी रिपोर्ट

चित्र संख्या-4
 
उन्नाव

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर लखनऊ रेंज कमिश्नर ने सभी जिला तहसील व ब्लाक अधिकारियों को मुख्यालय पर मौजूद रहने का आदेश जारी किया था। जिसपर डीएम के निर्देश पर एसडीएम के निरीक्षण में बीडीओ हसनगंज कार्यालय से नदारद मिली। जिसपर एसडीएम ने बीडीओ के खिलाफ सामान्य दैनिकी विवरण के अन्तर्गत कोतवाली में रपट यानि तस्करा लिखवा दिया है। जिससे ब्लाक अधिकारी व कर्मचारियों में पहली बार इस तरह की कार्यवाही होने से हड़कम्प मच गया है। 


    मालूम हो कि शनिवार को अयोध्या में श्री राम मंदिर के अहम फैसले को लेकर एक दिन पहले ही लखनऊ मंडल के कमिश्नर ने सभी जिले, तहसील व ब्लाक अधिकारियों को मुख्यालय पर मौजूद रहने का आदेश जारी किया था। जिसपर  हसनगंज पुलिस चप्पे-चप्पे पर मुस्तैद होकर नजर गडाये रही लेकिन खंड विकास अधिकारी रुक्मिणी वर्मा शासन के अधिकारी के आदेश को दरकिनार कर ड्यूटी के नाम पर घर में आराम फरमाती रहीं।

जिसका खुलासा तब हुआ जब डीएम देवेन्द्र कुमार पांडेय के निर्देश पर एसडीएम प्रदीप कुमार वर्मा ने ब्लाक मुख्यालय का निरीक्षण किया तो खण्ड विकास अधिकारी रुकमणी वर्मा नदारद मिली। एसडीएम प्रदीप वर्मा ने कोतवाली हसनगंज में बीडीओ रुक्मिणी वर्मा के खिलाफ सामान्य दैनिकी विवरण के अंतर्गत जीडी में रपट लिखाई है। जिससे ब्लाक के अधिकारी व कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। जबकि नगर पंचायत मोहान में उपजिलाधिकारी प्रदीप कुमार वर्मा के नेतृत्व में चेयरमैन हयात रसूल अधिशासी अधिकारी रुक्मिणी बिस्ट व नगर पंचायत न्योतनी में चेयरमैन मनीष राठौर के नेतृत्व में ईओ सुनील कुमार सहित सभासदो ने पैदल मार्च किया।

तहसीलदार नरेंद्र कुमार व नायब तहसीलदार मंजुला मिश्रा ने अलग-अलग औरास व नवाबगंज ब्लाक मुख्यालयों पर निगरानी बनाये रखा। वहीं कोतवाली निरीक्षक अरुण प्रताप सिंह के नेतृत्व में भारी पुलिस के साथ चप्पे-चप्पे पर नजर रखकर कस्बों में पैदल गस्त कर लोगो को सुरक्षा दिलाने का अहसास दिलाया। वहीं मोहान चैकी इंचार्ज सन्तोष कुमार यादव ने मस्जिद मय फोर्स के साथ मस्जिद व सार्वजनिक स्थानों पर तैनात रहकर सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखा।
-------------------------------------------------

Comments