डाली से टूटे पत्तो की तरह कही...

डाली से टूटे पत्तो की तरह कही...

"डाली से टूटे पत्तो की तरह कही 
   बिखर न जाये कई ज़िन्दगी,
     इसीलिए मैं हार कर भी 
   जीने की कोशिश करता हूँ"

'शब्द' अंकित की कलम ✍️ से

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Loading...
Loading...

Comments