धरौली बरातघर खंडहर मे तब्दील बिडियो ,प्रधान, सेक्रेटरी, बने मूक दर्शक

धरौली बरातघर खंडहर मे तब्दील बिडियो ,प्रधान, सेक्रेटरी, बने मूक दर्शक

बरातघर बना जानवरों का अड्डा ,लहलहा रही घास 

 

हरदोई/कोथावाँ -

विकास खण्ड के ग्राम पंचायत नेवादा मजरे धरौली गाँव में बना बरातघर खंडहर में तब्दील हो रहा है। सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों में विकास की रूपरेखा तय करने के लिए बीते वर्षों में बनवाए गए बरातघर के निर्माण पर लाखों रुपए का बजट खर्च कर दिया गया।

लेकिन इन बरातघरों मे एक भी शादी नहीं हो सकी ।और यह खंडहर में तब्दील हो गए। यही नहीं, कहीं कहीं इन  बबरातघरों के भवनों पर गांव के लोगों का कब्जा करके अपने निजी उपयोग का साधन ही बना लिया है।विकासखंड कोथावाँ के नेवादा ग्राम पंचायत के मजरे धरौली गांव में बना बरातघर पूरी तरह खंडहर में तब्दील हो गया है।

इसके दरवाजे तथा खिड़की ग्रामीणों ने उखाड़ कर अपने घरों में रख लिए हैं यही नहीं, इसकी बाउंड्रीवाल तक ग्रामीण उखाड़ ले गए हैं।अब भवन को उखाड़ने का क्रम जारी है।

अगर जिम्मेदारों ने इस तरफ समय रहते ध्यान नहीं दिया कुछ समय में इस भवन का अस्तित्व ही मिट जाएगा। हालांकि सरकार की मंशा थी कि सभी ग्राम पंचायतों  मे बरातघर हो । जहां ग्रामवासी अपनी लडक़ी की सही से बरात कर सके ।तथा गांव के लोगों को दिक्कतों का सामना ना करना पड़े। लेकिन सरकार की इस मंशा पर पूरी तरह पानी फिर गया है।

लोगों ने  ग्राम पंचायतों में बनाए गए बरातघर पर 

कब्जा कर लिया तथा उनको अपने निजी उपयोग का साधन बना लिया यही नहीं लाखों रुपए की लागत से बनाए गए इन बरातघर का अस्तित्व ही मिटा डाला ग्राम पंचायत नेवादा मजरे धरौली में बने बरातघर तो एक बानगी भर है कोथावाँ क्षेत्र में बनाए गए ग्राम बरातघरों की हालत इससे भी बदतर है।

Comments