पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी ’

पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी ’

 

पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी ’


नसबंदी पखवाड़ा आज से, पुरुषों को करेंगे जागरूक 


4 दिसंबर तक लगेंगे शिविर, होंगी गतिविधियां  

 
बिना-चीरा, बिना टांका, नसबंदी अपनायें पुरुष  

संवाददाता नरेश गुप्ता 

कानपुर  20 नवम्बर 2019 । 


प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार के लिए और परिवार नियोजन के क्षेत्र में पुरुषों की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए पुरुष नसबंदी पखवाड़ा 21 नवम्बर से मनाया जाएगा। पखवाड़े के प्रथम चरण में 21 से 27 नवम्बर तक दंपत्ति संपर्क सप्ताह तथा द्वितीय चरण में 28 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक सेवा प्रदायगी  सप्ताह मनाया जायेगा।  पखवाड़े की थीम ’’पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी ’’ स्लोगन पर आधारित विभिन्न गतिविधियों का आयोजन समस्त स्वास्थ्य इकाईयों पर किया जाएगा।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व नोडल अधिकारी डॉ राजेश कटियार ने बताया -  पखवाड़े के दौरान ’’पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में भागीदारी ’’ स्लोगन पर आधारित गतिविधियां होंगी। पखवाड़े के प्रथम सप्ताह में एएनएम व आशा द्वारा पुरुषों की परिवार नियोजन में सहभागिता, परिवार नियोजन के उपलब्ध साधनों की जानकारी, सीमित परिवार के लाभ, विवाह की सही आयु (लडक़े की 21 वर्ष एवं लडक़ी की 18 वर्ष), विवाह के बाद कम से कम दो साल बाद पहला बच्चा हो, पहले व दूसरे बच्चे में 3 साल का अंतर हो, प्रसवोत्तर व गर्भपात पश्चात परिवार कल्याण सेवाओं की जानकारी दी जाएगी। वहीं स्वास्थ्य इकाइयों पर कार्यरत महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता, परामर्शदाता तथा आशा द्वारा लाभार्थियों को परिवार नियोजन के स्थाई व अस्थाई साधनों तथा पुरुष नसबंदी पखवाड़े की जानकारी दी जाएगी। प्रत्येक चिकित्सा संस्थान पर लाभार्थियों के लिए सुलभ स्थान पर कंडोम बॉक्स  स्थापित किए जाएंगे।

एएनएम व आशा देंगी परिवार नियोजन के  साधनों की जानकारी

जिला परिवार नियोजन विशेषज्ञ संध्या बाजपेयी ने बताया - दंपत्ति सम्पर्क चरण के तहत गांवों में 21 से 27 नवम्बर तक एएनएम और आशा द्वारा योग्य दम्पतियों को पुरुष गर्भ निरोधक साधनों के लिए संवेदीकरण, चिन्हीकरण एवं पंजीकरण किया जाएगा। वहीं प्रचार प्रसार सामग्री द्वारा पुरुष नसबंदी की जानकारी दी जाएगी। जनप्रतिनिधियों व संगठनों को पुरुष नसबंदी पखवाड़े की जानकारी देने के साथ जनप्रतिनिधियों का परिवार पूर्ण पुरुषों को नसबंदी अपनाने के लिए प्रेरित करने में सहयोग लिया जाएगा। जिन चिकित्सा संस्थानों पर पुरुष नसबंदी सेवाएं प्रदान की जा रही है, वहां सेवा वितरण सप्ताह के दौरान गुणवत्तापूर्ण पुरुष नसबंदी सेवाएं प्रदान की जाएंगी। 

पॉपुलेशन सर्विस इंटरनेशनल के सिटी मैनेजर ने बताया कि गर्भ गर्भनिरोधक संसाधनों का उपयोग करने में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। उन्होंने बताया कि परिवार नियोजन के उपायों को अपनाने वालों को प्रोत्साहन राशि दी जाती है। बताया कि पुरूष नसबंदी पर 2000 तथा महिला नसबंदी पर 1400 रूपये लाभार्थी को दिए जाते हैं। प्रसव के बाद पीपीआईसीडी में महिला को 150 रूपये मिलते हैं।

Comments