गरीब बच्चों को शिक्षा दिलवाना ही प्राथमिकता - दिलबाग कादियान

गरीब बच्चों को शिक्षा दिलवाना ही प्राथमिकता - दिलबाग कादियान

करनाल - गरीब व जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा मुहैया करवाने को लेकर जो मुहिम समर्पण मानव सेवा समिति द्वारा जो मुहिम चलाई जा रही है उस कड़ी में आज मानव सेवा संघ में लोगों को बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलाने के प्रति जागरूक किया गया। इस मौके पर समिति के सदस्यों द्वारा बच्चों और उनके अभिभावकों के साथ एक बैठक की गई। इस काउंसलिंग कार्यक्रम में 20 जरूरतमंद परिवार के लोगों ने अपने बच्चों सहित भाग लिया। बैठक में समर्पण मानव सेवा समिति के अध्यक्ष दिलबाग कादियान ने कहा कि जरूरतमंद और गरीब बच्चों को शिक्षा मिले, ऐसा उनका और उनकी संस्था का प्रयास रहता है। पैसों के अभाव में कोई बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे

इसके लिए वह हर साल कई बच्चों की पढ़ाई का खर्चा उठाते हैं। इस मौके पर समिति के सदस्यों द्वारा बच्चों के अभिभावकों के साथ काउंसलिंग की। काउंसलिंग के बाद दिलबाग कादियान ने बताया कि जो जरूरतमंद होगा उसकी पढ़ाई का खर्चा उनकी संस्था द्वारा वहन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि उनके इस अभियान में कर्ण नगरी के दानवीर लोग भाग लें और पुण्य के भागी बने। उन्होंने बताया कि यदि आज प्रत्येक बच्चा शिक्षित होगा तो अपने आप ही भविष्य में कई सामाजिक बुराईयां और समस्याएं समाप्त हो जाएंगी। कोषाध्यक्ष सुरेंद्र मान ने अभिभावकों को बच्चों की शिक्षा के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि वे अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलाएं ताकि वह अपना और अपने माता-पिता का भविष्य सुधार सके। एडवोकेट रितिका सरदाना ने भी अपने विचार रखते हुए कहा कि शिक्षा प्रत्येक बच्चे का मौलिक अधिकार है। बच्चों को हर हालत में शिक्षा दिलाएं।

उन्होंने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि अभिभावक लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की शिक्षा पर ध्यान कम देते हैं जबकि यह सही नहीं है। आज के दौर में लड़का और लड़की दोनों बराबर हैं। जितना एक लड़का अपने माता-पिता की सेवा करता है उससे कहीं अधिक एक लड़की अपने माता-पिता की सेवा करती है। बैठक में विशेष रूप से आमंत्रित के.आई.टी.एम. की डायरैक्टर रीना संधू ने भी बच्चों और उनके अभिभावकों के साथ विचार सांझा किए। इस अवसर पर समिति के कोषाध्यक्ष सुरेंद्र मोन, एडवोकेट रितिका सरदाना, रीतू मेहंदीरत्ता, के.आई.टी.एम. की डायरैक्टर रीना संधू, आशा कादियान, ललिता राणा, सज्जन सिंह दहिया, शंटी अरोड़ा एवं बच्चों के अभिभावक मौजूद थे। 

Support to Swatantra Prabhat Media

T & C Privacy

Comments